5 दिसंबर को है सोम प्रदोष व्रत, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

प्रत्येक महीने के दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है। जी हाँ, और प्रदोष व्रत भगवान भोलेनाथ को समर्पित माना जाता है। आपको बता दें कि मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि 5 दिसंबर, दिन सोमवार को है। जी हाँ और इसी दिन सोम प्रदोष व्रत रखा जाएगा। जी दरअसल ज्योतिष शास्त्र के अनुसार महादेव को प्रसन्न करने और जल्द कृपा पाने के लिए प्रदोष व्रत रखना लाभकारी होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन जो व्यक्ति व्रत रखकर शिव साधना करता है उसकी सभी विपदा को महादेव हर लेते हैं। शिव जी एक ऐसे देवता हैं, जिनकी पूजा देवी-देवता, असुर, ऋषि, दैत्य सभी करते हैं। सच्चे मन से इनकी भक्ति करने पर फल जरूर प्राप्त होता है। अब हम आपको बताते हैं मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष के प्रदोष व्रत का मुहूर्त।


मार्गशीर्ष सोम प्रदोष व्रत 2022 मुहूर्त- पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि 5 दिसंबर 2022 को सुबह 05 बजकर 57 मिनट पर शुरू होगी। वहीं इसका समापन अगले दिन 06 दिसंबर 2022 को सुबह 06 बजकर 47 मिनट पर होगा।

पहना है रुद्राक्ष तो भूल से भी ना करें ये गलतियां

सोम प्रदोष व्रत शिव पूजा का शुभ मुहूर्त - 5 दिसंबर को पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 33 मिनट से रात 08 बजकर 15 मिनट तक


सोम प्रदोष की पूजा विधि- सोम प्रदोष के दिन सुबह स्नान आदि से निवृत होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। उसके बाद एक चौकी रखें और उस पर भगवान शिव और माता पार्वती का चित्र या कोई मूर्ति स्थापित करें। अब षोडशोपचार पूजन करें। इसके बाद संध्या के समय पुनः स्नान के बाद शुभ मुहूर्त में पूजन आरंभ करें। अब गाय के दूध, दही, घी, शहद और गंगाजल आदि से शिवलिंग का अभिषेक करें। इसके बाद शिवलिंग पर श्वेत चंदन लगाकर बेलपत्र, मदार, पुष्प, भांग, आदि अर्पित करें।
इसके बाद विधि पूर्वक पूजन और आरती करें।

भोजन करते वक्त इन नियमों का जरूर करें पालन वरना बर्बाद हो जाएगा जीवन

बुधवार के दिन इन उपायों को करने से जल्दी प्रसन्न होंगे गणेश जी

हनुमान जी के इन मन्त्रों के जाप से हर कष्ट होंगे दूर, आज जरूर करें जाप

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -