इन फिल्मों के माध्यम से दादा कोंडके ने बटोरी खूब सुर्खियां, सात मराठी मूवीज ने मनाई गोल्डन जुबली

उस समय में जब बाला साहेब ठाकरे मराठी मानुष के लिए संघर्ष कर रहे थे, तो वहीं दूसरी तरफ एक एक्टर मराठी सिनेमा के लिए जी तोड़ मेहनत में जुटा हुआ था. उनकी मूवीज डबल मीनिंग कॉमेडी होती थी लेकिन ये ऑडियंस का ध्यान खींचने का सबसे बेहतर तरीका था. दादा कोंडके इसी तरीका का उपयोग कर मराठी सिनेमा के स्टार बन गए थे. उनका जन्म आठ अगस्त 1932 को हुआ था. दादा कोंडके को आम आदमी के हीरो के रूप में पहचाना जाता है. दादा कोंडके की कुछ मूवीज 25 हफ्ते तक सिनेमाघरों में चलीं. यह गिनीज बुक में एक रिकॉर्ड के रूप में दर्ज है. आज उनके जन्मदिन पर हम आपको उनसे जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे है....

बता दें की दादा कोंडके का रियल नाम कृष्णा कोंडके था. उनका बाल्यावस्था गरीबी में बीता. वो अपने फ्रेंड्स संग छोटी मोटी गुंडागर्दी किया करते थे. दादा ने एक बार बोला था कि वो ईंट, पत्थर, बोतल का उपयोग अपने लड़ाई में किया करते थे. राजनीति से दादा को बेहद लगाव था इसलिए वो इसमें भी बहुत दखलंदाजी रखते थे. मराठियों के अफसरों के लिए वो शिवसेना से जुड़ गए थे. शिवसेना की रैलियों में दादा कोंडके भीड़ जुटाने का कार्य करते थे.  

दादा कोंडके अपने मराठी नाटक 'विच्छा माझी पूरी करा' के लिए भी फेमस हुए. हालांकि, इस नाटक को कांग्रेस विरोधी कहा जाता है. दरअसल, इस नाटक में इंदिरा गांधी का मजाक उड़ाया गया था. दादा कोंडके ने इस नाटक के 1100 से अधिक स्टेज शो किए. साल 1975 में आई दादा कोंडके की मूवी 'पांडू हवलदार' बेहद सुर्ख़ियों में रही थी. इसमें उन्होंने अहम किरदार निभाया. इस मूवी के बाद से ही हवलदारों को पांडु बोला जाने लगा था. मराठी मूवी में सिंगर महेंद्र कपूर और दादा कोंडके की जोड़ी खूब लोगों को पसंद आई. कोंडके  के लिए महेंद्र कपूर के गाए हुए गाने मराठी सिनेमा में बेहद लोकप्रिय हुए. दादा कोंडके हास्य एक्टर थे और वे अपनी मूवीज में डबल मीनिंग कॉमेडी का उपयोग भी करते थे. वहीं, दादा कोंडके की पुण्यतिथि पर मुंबई के भारत माता सिनेमागृह में फिर से एक्टर की याद ताजा करने के लिए उनकी मूवीज को दिखाने की परम्परा को आरंभ किया गया. दादा कोंडके की 7 मराठी मूवीज ने गोल्डन जुबली मनाई, तभी उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल हो गया था. 

मेरठ में नहीं थम रहा कोरोना का कहर, 3 संक्रमितों की हुई मौत

उत्तर प्रदेश: बीएचयू के कोविड टेस्टिंग रूम में हुई तोड़फोड़, चारों और मची अफरा-तफरी

जिसे कब्र में दफनाया, वो जिन्दा घर लौट आया....हैरान कर देगा ये मामला

 

 

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -