मंजिल नहीं है आसान

मंजिल नहीं है आसान

मंजिले वही है फासले ज्यादा है ।

दूर रहते हुए भी रिश्ते ताजा है ।

इतना आसान नहीं है मंजिल को पाना,

आसान नहीं मंजिल के रास्ते ।

पर साथ में आप हो मेरे तो,

मंजिल के रास्ते भी हसीं हो जाते है ।

तेरी दोस्ती का कर्ज चुकाऊगा।

तेरे लिए दुनिया छोड़ जायेगे।

हर कसम तेरे लिए तोड़ देंगे।

तेरे लिए इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।