वित्त मंत्री ने सरकारी बैंकों को बोली यह बात

वित्त मंत्री ने सरकारी बैंकों को बोली यह बात

शुक्रवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) के साथ बैठक की और उनसे कोरोना प्रभावित अर्थव्यवस्था को संकट से उबारने के लिए बड़े आत्मनिर्भर पैकेज को लागू करने के लिए कहा. बीस लाख करोड़ रुपये से अधिक के राहत पैकेज के एलान के बाद वित्त मंत्री की सरकारी बैंकों के प्रमुखों के साथ पहली बैठक हुई, जो वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई. केंद्रीय कैबिनेट ने गत बुधवार को इस पैकेज की तमाम योजनाओं को अपनी मंजूरी प्रदान की है. वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को हुई बैठक की जानकारी देते हुए ट्विटर पर बताया कि हर किसी ने एमएसएमई और अन्य उपभोक्ताओं की आवश्यकताओं पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता रेखांकित की. 

मध्य प्रदेश सरकार से टैक्स नीति में भी बदलाव चाहते है उद्योगपति, कर रहे है ये मांग

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पैकेज पर क्रियान्वयन किस तरह किया जाएगा, इसके बारे में दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं. इस संदर्भ में शीघ्र ही विवरण दिया जाएगा. इंडियन बैंक की प्रबंध निदेशक पद्मजा चंदरू ने बैठक के बाद बताया कि वित्तमंत्री ने एमएसएमई को अतिरिक्त कर्ज जल्द से जल्द जारी करने, प्रक्रिया, फार्मेट और दस्तावेजों को आसान बनाने पर जोर दिया.  

मशहूर कार रेंटल कंपनी हर्ट्ज़ पर लॉकडाउन की मार, किया दिवालिया होने के लिए आवेदन

अगर आपको नही पता तो बता दे कि एमएसएमई को जो राहत पैकेज दिया गया है उसमें सबसे प्रमुख है तीन लाख करोड़ रुपये की इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम. 9.25 प्रतिशत की रियायती दर पर 100 प्रतिशत गारंटी स्कीम 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की दूसरी सबसे बड़ी घोषणा है. मौजूदा समय एमएसएमई को दिए जाने वाले बैंक लोन की दर साढ़े नौ प्रतिशत से 17 प्रतिशत के बीच रहती है और इसका निर्धारण जोखिम के पहलू के आधार पर होता है.  

गिरती अर्थव्यवस्था पर बोले चिदंबरम, मोदी सरकार पर जमकर साधा निशाना

अनिल अंबानी की मुश्किलें बढ़ीं, ब्रिटेन कोर्ट ने दिया 21 दिनों में 5448 करोड़ चुकाने का आदेश

निवेशकों को लुभाने में नाकाम रहा रहत पैकेज, इस हफ्ते भी गिरावट में बंद हुआ शेयर बाजार