हिजाब पहनकर कक्षा में नहीं मिलेगा प्रवेश.., मैंगलोर यूनिवर्सिटी का फैसला, कहा- दूसरी जगह एडमिशन...

बैंगलोर: कर्नाटक में जारी हिजाब-बुर्का विवाद के बीच मैंगलोर यूनिवर्सिटी कॉलेज ने मुस्लिम छात्राओं को हिजाब में कक्षा में आने की इजाजत देने के अपने फैसले को वापस ले लिया है। हालाँकि, कॉलेज प्रशासन ने हिजाब पहनने की जिद पर अड़ी छात्राओं को अन्य संस्थानों, जहाँ यूनिफॉर्म नहीं है या जहाँ हिजाब पहनने की इजाजत है, उसमें दाखिला दिलाने में मदद प्रदान करने की बात कही है। बता दें कि कक्षा में हिजाब पहनने की इजाजत देने के कॉलेज प्रशासन का छात्रों ने सख्त विरोध किया था।

कॉलेज प्रशासन के इस फैसले के खिलाफ विद्यार्थियों ने परिसर में धरने पर बैठकर विरोध प्रदर्शन किया था। छात्रों का कहना था कि मुस्लिम छात्राओं को कक्षा में हिजाब पहनने की इजाजत देखकर कॉलेज प्रशासन कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश का उल्लंघन कर रहा है। भारी विरोध को देखते हुए कॉलेज प्रशासन ने फैसले को वापस लेते हुए कहा कि कर्नाटक हाई कोर्ट प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेजों में हिजाब प्रतिबंध को कायम रखने का आदेश डिग्री कॉलेजों पर भी लागू होगा और इसलिए धार्मिक पोशाक को कक्षाओं के भीतर इजाजत नहीं दी जाएगी।

कॉलेज के VC प्रोफेसर सुब्रह्मण्य यदपादित्या ने कहा है कि, 'हमारा कॉलेज शुरू में लड़कियों को यूनिफॉर्म की रंग से मेल खाते हेडस्कार्फ़ को पहनने की इजाजत दे दी थी, मगर कर्नाटक हाई कोर्ट आदेश के मद्देनजर CDC (कॉलेज विकास परिषद) के अध्यक्ष और मैंगलोर दक्षिण के MLA वेदव्यास कामथ और सिंडिकेट के सदस्यों के साथ बैठक के बाद फैसला लिया गया है कि कक्षाओं के अंदर धार्मिक पोशाक की इजाजत नहीं होगी।'

4 साल पहले मर गया जो शख्स, उसपर अब दर्ज हुई FIR, दरोगा ने चार्जशीट बनाकर कोर्ट में भी दे दी

Monkeypox को लेकर दुनियाभर में हड़कंप, यूपी सरकार ने भी जारी की एडवाइजरी

'तुम्हारी गर्दन काट दी जाएगी..', नूपुर शर्मा को धमकियाँ क्यों दे रहे इस्लामी कट्टरपंथी ?

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -