एक ऐसा क्लब जहां पुरुषों का प्रवेश वर्जित है

एक ऐसा क्लब जहां पुरुषों का प्रवेश वर्जित है

आजकल महिलाओं में सेक्सुअलिटी एक्सप्लोर करने की प्रवृत्ति बढ़ गई है.अब महिलांए ने केवल सेक्सुअल फेंटेसी के बारे में बातें करती है , बल्कि अपने मनोरंजन के लिए कामुक चीजों का इस्तेमाल भी करती है.

यह नया प्रयोग करने के लिए कई जगह क्लब बनाए गए हैं जहां महिलाएं ऐसा करती हैं . इन क्लबों में पुरुषों का प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित होता है.इसलिए इस क्लब का नाम ही ' मैंन नॉट अलाउड ' रखा गया है. इस क्लब में आने के बाद कोई फोटो भी नहीं ले सकता.है. यह नियम इसलिए बनाया गया ताकि इस क्लब को गोपनीय रखा जा सके.इस क्लब के अब तक 500 सदस्य बन चुके हैं और यह संख्या दिनोदिन बढ़ रही है.

बीते दो सालों की अल्पावधि में इस तरह के क्लब लंदन , न्यूयार्क , मियामी और मैनचेस्टर में खुल चुके हैं.सिडनी में भी इसके खुलने की तैयारी है.बता दें कि इस क्लब में लेस्बियन और बायसेक्सुअल महिलाऐं शिरकत करती हैं . कुछ खुले विचारों वाली महिलाएं, जिन्हे अपने सेक्सुअलिटी के नए - नए प्रयोग करने का शौक है वे , यहां आकर आनंद की अनुभूति करती हैं .इस क्लब में महिलाओं के मनोरंजन के लिए विभिन्न प्रकार के सेक्स टॉयज ,कॉस्ट्यूम्स और कामुक फेंटेसी वाली चीजें भी मिलती हैं.जिसका सभी महिलाएं अपनी इच्छानुसार उपयोग करती है.