वह परिवर्तन खुद में भी करो जो तुम दुनिया में देखना चाहते हो

वह परिवर्तन खुद में भी करो जो तुम दुनिया में देखना चाहते हो
Share:

राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी ने देश को आजाद कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उन्होंने अहिंसा और सत्य का मार्ग लोगो को दिखाया. उनकी कही हुई बात में एक बात यह भी शामिल है कि वह परिवर्तन खुद में भी करो जो तुम दुनिया में जो तुम लोगो में देखना चाहते हो. बात पते की है. यदि हम सामने वाले से ईमानदारी की उम्मीद करते है तो हमें स्वयं भी ईमानदार होना जरूरी है. यदि हम ईमानदार नहीं और सामने वाले से ईमानदारी चाहे तो यह बेईमानी होगा. जैसा बर्ताव हम दुसरो से खुद के प्रति चाहते है वैसा ही बर्ताव हमें स्वयं को करना चाहिए. इसके लिए पहले हमें स्वयं को बदलना होगा, यदि हम दुनिया में बदलाव चाहते हो.

मसलन, हम अपने देश को साफ सुथरा रखना चाहते है, चाहते है कि आम लोग सार्वजानिक स्थानों पर यहाँ-वहां कचरा न फेके तो हमें चाहिए कि पहले ये गलती हम स्वयं न करे. हम चाहते है हम से दुनिया विनम्र बनी रहे, लोग हमारी तारीफ करे, तो इसके लिए सबसे पहले हमें तारीफों में कंजूसी की आदत को खत्म करना चाहिए. देखा गया है कि अगर कोई चीज सामने वाले व्यक्ति की अच्छी होती है तो तारीफ करने के बजाय जलन महसूस करने लगते है. हम शिकायत करते है, समाज ये कर रहा है, लोग ये सोचते है, इसकी विचारधाराएं ऐसी है. कोई ये नहीं सोचता, समाज हमसे ही तो मिलके बना है.

यदि हम गलत सोचना, गलत करना छोड़ दे, बिलकुल उम्मीद है कि हमें देख कर कोई और भी सुधर जाए. शिकायते करने के बजाय जो बदलाव परिवार, समाज और देश में चाहते है, उस बदलाव को खुद में निहित करे, क्या पता आपके बढ़ाए कदम के बाद दुनिया बदलाव के दौर पर सकारात्मक विकास करे.

ये भी पढ़े 

अपने दुश्मनो को खत्म करे उन्हें दोस्त बना कर

देश में दिखा रही है हिंदुत्व छवि अपना असर

नफरत हटा कर ही कायम होगी निष्पक्ष राय

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -