मेक इन इंडिया: स्मार्टफोन निर्यात में 700 फीसद की वृद्धि दर्ज

नई दिल्लीः मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में देश में उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए मेक इन इंडिया कैंपन लांच किया था। इस योजना का प्रभाव अब दिखने लगा है। योजना के लांच होने के पांच साल बाद इलेक्ट्रॉनिक्स वस्तुओं का उत्पादन दोगुना हो गया है। भारत अब स्मार्टफोन के निर्यातकों की सूची में शामिल हो गया है। भारत से स्मार्टफोन का निर्यात संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई, रूस, दक्षिण अफ्रीका और चीन को हो रहा है। स्मार्टफोन के निर्यात में एक साल में 700 प्रतिशत वृद्धि हुई है।

आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट, 2018-19 में इसकी जानकारी देते हुए कहा गया है कि मेक इन इंडिया के साथ ही मोबाइल फोन हैंडसेट और कंपोनेंट्स मैन्यूफैक्चरिंग एक फ्लैगशिप सेक्टर के रूप में उभरा है। घरेलू मोबाइल फोन के उत्पादन की बदौलत मोबाइल फोन का आयात कम हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2017-18 में भारत से स्मार्ट फोन का निर्यात महज 20 करोड़ डॉलर मूल्य का था, जो वित्त वर्ष 2018-19 में बढ़कर 160 करोड़ डॉलर हो गया।

इस बीच वाणिज्य मंत्रलय के ताजा आंकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष के शुरुआती चार महीनों (अप्रैल-जुलाई) के दौरान भारत से स्मार्टफोन का निर्यात एक अरब डॉलर के पार जा चुका है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2014-15 में देश में इलेक्ट्रॉनिक्स वस्तुओं का उत्पादन 31.2 अरब डॉलर मूल्य का था जो वित्त वर्ष 2018-19 में बढ़कर 65.5 अरब डॉलर हो गया है। इसमें मोबाइल हैंडसेट की हिस्सेदारी 3.1 अरब डॉलर से बढ़कर 24.3 अरब डॉलर हो गई है। हालांकि यह योजना शुरूआत में उतनी सफल नहीं रही। जिस कारण सरकार को काफी आलोचना भी झेलनी पड़ी।

इस तारीख को होगी जीएसटी काउंसिल की बैठक, उद्योग को दरों में कटौती की उम्मीद

चीन के साथ होने वाले व्यापार घाटे के लिए विदेश मंत्री ने उसके इसे नीति को ठहराया जिम्मेदार

सरकार संकटग्रस्त इन सरकारी टेलीकॉम कंपनियों का कर सकती है विलय

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -