लालू प्रसाद यादव की परेशानी में हुआ ​इजाफा, ​सियासी दलों के बीच खूब पक रही खिचड़ी

Jan 15 2020 03:59 PM
लालू प्रसाद यादव की परेशानी में हुआ ​इजाफा, ​सियासी दलों के बीच खूब पक रही खिचड़ी

बिहार में विधानसभा चुनाव की तैयारी जोरशोर से चल रही है. चुनाव के मदृेनजर नीतीश कुमार कई दिग्गज नेताओं के साथ भोज करते नजर आ रहे है. बता दे कि बिहार में मकर संक्रांति के अवसर पर आयोजित भोज में सियासी दलों की खिचड़ी भी पकती रही है. सियासत के समीकरण भी बनते-बिगड़ते रहे हैं. हालांकि, राजनीतिक दल ऐसे आयोजनों को सामाजिक बता इससे इनकार भी करते रहे हैं. ताजा मामला राष्‍ट्रीय जनता दल के विधायक फराज फतमी का है. उन्‍होंने जनता दल यूनाइटेड (JDU) के प्रदेश अध्‍यक्ष वरिष्ठ नारायण सिंह द्वारा आयोजित भोज में शिरकत की. साथ ही नागरिकता संशोधन कानून (CAA) व राष्‍ट्रीय नागरिक रजिस्‍टर (NRC) के खिलाफ तेजस्‍वी यादव की 'पोल खाेल यात्रा' का विरोध भी किया.

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भारत की छवि पर डाली रोशनी, आतंकवाद को लेकर ​दिया शानदार बयान

अपने बयान में फराज के बयान को आरजेडी को बड़ा झटका माना जा रहा है. इसके पहले आरजेडी के विधायक महेश्‍वर यादव भी खुलकर जेडीयू के स्‍टैंड का समर्थन कर चुके हैं. अभी तक आरजेडी विधायक महेश्वर यादव ही पार्टी लाइन के खिलाफ बोल रहे थे. अब इस कड़ी में फराज का भी नाम जुड़ गया है. विदित हो कि फराज के पिता एमए फातमी गत लोकसभा चुनाव में मधुबनी और दरभंगा से आरजेडी के टिकट के दावेदार थे. जब उन्‍हें टिकट नहीं मिला तो पार्टी का विरोध किया था.

छत्तीसगढ़ सरकार ने केंद्र के मनमाने अधिकार को खत्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि मकर संक्रांति पर जेडीयू के चूड़ा-दही भोज में आए आरजेडी विधायक फराज फातमी ने कहा कि सीएए व एनआरसी के मुद्दों पर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने स्‍टैंड साफ कर दिया है. उन्‍होंने स्‍पष्‍ट कहा है कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होने देंगे. ऐसे में अब तेजस्वी यादव को सीएए व एनआरसी के खिलाफ अपनी ‘पोल खोल यात्रा’ पर पुनर्विचार करना चाहिए. आरजेडी विधायक ने मुख्‍यमंत्री की जल जीवन हरियाली यात्रा का भी समर्थन किया.

क्या 22 जनवरी की सुबह 7 बजे निर्भया के दोषियों को होगी फांसी?

सेना की एक और जीत, मारा गया हिजबुल कमांडर हारून

पूर्व पीएम राजीव गांधी के दोषीयों को लगा तगड़ा झटका, मैसूर बार एसोसिएशन ने लिया दमदार निर्णय