फिलीपींस : 'मेलर' तूफान के कारण किया अलर्ट घोषित

मनीला: मौसम विभाग के मुताबिक जारी किये गए एक आधिकारिक बयान के मुताबिक फिलीपींस में मेलर तूफान के जबरदस्त रूप से और भी ज्यादा मजबूत होकर प्रचंड रूप से आगे बढ़ने से मध्य भाग में बढ़ते खतरे के मद्देनजर वहां के प्रशासन ने बच्चो के स्कूलों को बंद करने के साथ साथ ही समुद्र तट में मछुआरों को मछली पकड़ने पर व नावों के आवागमन पर भी पूरी तरह से पाबंदी लगा दी है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस बाबत मौसम विभाग द्वारा जारी बयान में कहा गया कि ‘‘ मेलर ’’ एक चक्रवाती तूफान है, जिसे स्थानीय लोग ‘‘नोना’’ के नाम से भी जानते हैं।

यह जबरदस्त तूफान समर द्वीप से 205 किलोमीटर की दूरी पर था और रात भर में यह दूसरी श्रेणी के तूफान से मजबूत होकर सुबह तीसरी श्रेणी के तूफान में बदल गया है, इस जबरदस्त तूफान की वजह से हवा की रफ़्तार भी तकरीबन 150 किलोमीटर प्रतिघंटा हो गई है। तथा यह 'मेलर' तूफान भी मध्य फिलिपींस में 2013 में आये एक जबरदस्त तूफान हेयान की ही तरह जबरदस्त रूप से आगे बढ़ रहा है.

इसके बाद फिलीपींस में अलर्ट जारी कर दिया गया है जिसके बाद वहां के तटरक्षकबल बलों के द्वारा मेलर तूफान के खतरे के मद्देनजर समुद्र में नौवहन और मछली पकड़ने पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है. जिसके बाद वहां पर तकरीबन 8000 हजार लोग बंदरगाहों पर ही फंस गये हैं। इस 'मेलर' तूफान के बारे में मौसम वैज्ञानिक एडम डाऊटी ने अपने बयान में दोहराया है कि ‘‘मेलर तूफान का दायरा काफी छोटा है इसलिए इसके केंद्र से बहुत ज्यादा दूर तक तबाही मचाने का खतरा कम है।

परन्तु फिर भी लोगो को आगाह कर दिया गया है. इस तूफान के चलते इसके केंद्र के तकरीबन तीन सो किलोमीटर के दायरे में जबरदस्त रूप से मूसलाधार बारिश की प्रबल संभावना है. जिसके लिए मनीला के बीस प्रांतो में प्रशासन ने अपनी और से चेतावनी जारी कर दी है. बता दे की 2013 के समय में आए ऐसे ही एक भयंकर तूफान के कारण भारी तबाही देखने को मिली थी जिसमे तकरीबन 8000 से ज्यादा लोग या तो मारे गये थे या वे लापता हो गये थे।
 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -