मैं अखबार पढ़ सकूं

ात्री (अखबार पढ़ते-पढ़ते)- अरे भाई कुली, 
मुझे उस डिब्बे मैं बिठाना, 
जहां बातें करने वाला कोई न हो, 
ताकि मैं अखबार पढ़ सकूं। कुली (बाबू जी)- आप चिन्ता न करें, 
मैं आपको मालगाड़ी के डिब्बे में बिठाऊंगा।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -