महावीर जयंती की स्पेशल कविताएं

1. आओ बच्चो मिलकर आओ आज तुम्हें कुछ बातें बताऊँ,
महावीर के जन्मदिवस पर उनके कुछ उपदेश सुनाऊँ,
कभी किसी से झूठ न बोलो सच्च के लिए अपना मुँह खोलो,
जब भी कभी बोलना चाहो तो पहले शब्दों को तोलो.
.
रखो सदा ही सच्च को साथ चाहे दिन हो चाहे रात,
किसी की कभी न करो बुराई मीठी वाणी मे सबकी भलाई,
कभी कोई गलती कर जाओ तो माफी से मुक्ति पाओ,
माफी माँगना या फिर करना नहीं कभी कोई इससे डरना.
.
रखो सबसे मैत्री भाव छोड़ो सबपे यह प्रभाव,
क्षमा से बडा न कोई उपहार होते इससे उच्च विचार,
कभी न हिंसा किसी पे करना सबसे ही मिलजुल कर रहना,
सबमें एक ही जैसी जान नहीं करना किसी का अपमान.
.
छोड़ो सारे वैर-विरोध कभी न मन में लाना क्रोध,
बच्चो यह सब बातें समझना अच्छाई के मार्ग पर चलना,
महावीर के शुभ वचनों का जीवन में सब पालन करना.

 

2. युग की है यही पुकार, फिर हो महावीर अवतार,
जियो और जीने दो, गूँजे हर घर, मंदिर, हर द्वार,
युग की है यही पुकार, फिर हो महावीर अवतार,
सत्य, अहिंसा धर्म हो मिट जाए अत्याचार.
.
युग की यही पुकार, फिर हो महावीर अवतार,
हे वीर ,अतिवीर,सन्मति हे महावीर, हे वर्धमान,
प्राणियों की सुनो पुकार कर दो सबका कल्याण,
गाय और सिंह एक घाट फिर साथ पिएँ पानी.
.
दिगंबर श्वेतांबर भेद मिटा जैन उर धरें माँ जिनवाणी,
युग की है यही पुकार, फिर हो महावीर अवतार,
महावीर के उपदेशों पर चले सारा संसार,
युग की है यही पुकार, फिर हो महावीर अवतार.

महावीर जयंती : तीर्थंकर भगवान महावीर के 5 अनमोल वचन

महावीर जयंती : भगवान महावीर ने बताये हिंसा के 4 प्रकार..

महावीर जयंती : इतने कष्ट सहने के बाद भगवान महावीर बने तीर्थंकर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -