महात्मा गाँधी की पौत्रवधु शिवालक्ष्मी का निधन, सूरत के अस्पताल में ली अंतिम सांस

नई दिल्ली: महात्मा गांधी की पौत्रवधु का देहांत हो गया है. बापू की 95 वर्षीय पौत्रवधु शिवालक्ष्मी ने सूरत के ग्लोबल अस्पताल में अंतिम सांस ली. उनकी कोई संतान नहीं थी. वह काफी दिनों से बीमार चल रही थीं. उनका इलाज सूरत के ग्लोबल हॉस्पिटल में हो रहा था. बताया जाता है कि वे सूरत के भीराड स्थित एक आश्रम में निवास करती थीं और कुछ दिन पूर्व अपने कमरे में ही गिर गई थीं. 

बीमार चल रही शिवालक्ष्मी को चोट लगने पर अस्पताल में एडमिट कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली. शिवालक्ष्मी, महात्मा गांधी के पौत्र कनुभाई गांधी की धर्मपत्नी थीं. कनुभाई, महात्मा गांधी के तीसरे पुत्र रामदास के बेटे थे. रामदास गांधी के तीन बच्चों में कनुभाई के अतिरिक्त दो बेटियां सुमित्रा बेन और उषा बेन थीं. जानकारी के मुताबिक, शिवालक्ष्मी कनुभाई के साथ वर्ष 2013 में विदेश से भारत लौटी थीं. कनुभाई और उनकी पत्नी पहले दिल्ली और फिर बेंगलुरु में रहे. मरौली के आश्रम में कुछ दिन रहने के बाद यह दंपति वर्ष 2014 में अपने गृह राज्य गुजरात लौट आया था.

तब से कनुभाई और शिवालक्ष्मी सूरत के भारती मैया आनंदधाम वृद्धाश्रम में रह रहे थे. आपको बता दें कि अमेरिका की अंतरिक्ष विज्ञान एजेंसी नासा में वैज्ञानिक रहे कनु गांधी का वर्ष 2014 में देहांत हो गया था. कनु की चिता को पत्नी शिवालक्ष्मी ने ही मुखाग्नि दी थी. कनु गांधी के निधन के वक़्त यह दंपति सूरत के ही राधाकृष्ण मंदिर में रह रहा था.

Indigo : कंपनी ने कर्मचारियों को वेतन के मामले में दिया तगड़ा झटका

रतन टाटा ने इस छोटे से स्टार्टअप में किया निवेश

व्हाइट हाउस में गूंजे वेद मंत्र, कोरोना से मुक्ति के लिए राष्ट्रपति ट्रम्प ने कराया 'शांति पाठ'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -