RTI कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले में महाराष्‍ट्र सबसे आगे

Sep 06 2015 11:52 AM
RTI कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले में महाराष्‍ट्र सबसे आगे

मुंबई : RTI कार्यकर्ता सतीश के हत्‍यारों को सजा दिलाने के लिए उनके भाई संदीप शेट्टी बीते पांच सालों से संघर्ष कर रहे हैं. वे एक साल पहले अपनी नौकरी भी छोड़ चुके हैं. बीते पांच सालों से संदीप का ज्यादातर वक्‍त कोर्ट की सुनवाई और सीबीआई जांच में जा रहा है. संदीप का कहना है कि मुंबई पुणे एक्सप्रेस-वे में धांधली उजागर करने वाली आरटीआई के बाद उनके भाई सतीश की चाकू मारकर हत्या कर दी गई थी. पिछले 10 सालों में मुंबई में 10 RTI कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है. इस मामले में मुंबई पहले स्थान पर है.

कॉमनवेल्थ ह्यूमन राइट्स के आंकड़े बताते हैं कि महाराष्ट्र में 60 RTI कार्यकर्ताओं पर अब तक हमला हुआ, उन्‍हें प्रताड़ित किया गया या वे मारे गए. RTI कार्यकर्ताओं की हत्‍या के मामले में गुजरात और उत्तर प्रदेश दूसरे स्‍थान पर हैं. दोनों जगह 6-6 आरटीआई कार्यकर्ताओं की हत्‍या की गई. वहीँ तीसरे स्‍थान पर कर्नाटक और बिहार हैं. इन दोनों राज्‍यों में 4-4 RTI कार्यकर्ताओं की हत्‍या की गई.