हिंदू हैं और हिंदुत्व के लिए लड़ता रहूँगा

Jan 08 2016 10:37 AM
हिंदू हैं और हिंदुत्व के लिए लड़ता रहूँगा

मुंबई : महाराष्ट्र की राजनीति में मराठी मानुष के मसले से पिछड़ने वाले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे एक बार फिर महाराष्ट्र में नए जोश के साथ मैदान में हैं। हालांकि इस बार वे मराठी मानुष का मसला लेकर नहीं आ रहे हैं बल्कि वे हिंदूत्व के मसले के साथ मोर्चा खोलने में लगे हैं। हाल ही में रूईया काॅलेज में आयोजित किए गए एक कार्यक्रम में मनसे के अध्यक्ष राज ठाकरे ने विद्यार्थियों से चर्चा की। अपने उद्बोधन में राजन ने कहा कि वे हिंदू हैं और हिंदुत्व के लिए खड़े रहेंगे। उन्होंने इसी के साथ अपनी पार्टी की भूमिका को साफ किया। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के ध्वज में हरे रंग का उल्लेख है।

यह रंग मुस्लिम धर्म का प्रतीक है। अमजद अली खान के सरोद और जाकिर हुसैन के तबला वादन हेतु इस तरह का रंग सांकेतिक है। भिवंडी बेहरामपाड़ा हेतु यह नहीं है। यही नहीं राज ठाकरे द्वारा कहा गया कि वे हिंदू हैं। हिंदुत्व के लिए वे लड़ेंगे। उल्लेखनीय है कि राजठाकर ने अपने चाचा और शिवसेना सुप्रीमो बाळ ठाकरे के निधन के बाद शिवसेना से अलग हो गए थे। उन्होंने अपना एक अलग दल बनाया।

महाराष्ट्र नव निर्माण सेना ने कुछ ही दिनों में शिवसेना से भी अधिक उग्र दल के तौर पर अपनी पहचान महाराष्ट्र में बनाई। मराठी मानुष का मसला भी जोर पकड़ा लेकिन बाद में इस मसले पर मनसे को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। मनसे का जनाधार कम हो गया। मगर विधानसभा चुनाव में इस पार्टी के 13 विधायक चुने गए। नासिक महानगर पालिका पर भी मनसे का कब्जा हुआ। इसके बाद राजन ने अपने राजनीतिक मसले बदलना प्रारंभ कर दिए।