खुराक की कमी के की वजह से हमें लोगों को वापस भेजना पड़ रहा है: स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे

Apr 08 2021 11:20 AM
खुराक की कमी के की वजह से हमें लोगों को वापस भेजना पड़ रहा है: स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे

मुंबई: महाराष्ट्र में दिन पर दिन कोरोना का कहर बढ़ रहा है। ऐसे में अब यहाँ पर 30 अप्रैल तक नाईट कर्फ्यू और वीकेंड पर लॉकडाउन लगाया जा चुका हैं। जी दरअसल इन सभी के बीच राज्‍य के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने एक चौकाने वाला बयान दिया है। हाल ही में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि, 'हमारे पास विभिन्न टीकाकरण केंद्रों पर पर्याप्त वैक्सीन खुराक उपलब्‍ध नहीं है, खुराक की कमी के की वजह से हमें लोगों को वापस भेजना पड़ रहा है।' इसी के साथ राजेश टोपे ने यह भी कहा कि, 'हमने केंद्र से मांग की है कि 20 से 40 वर्ष तक के लोगों को भी प्राथमिकता के आधार पर कोरोना वैक्‍सीन की खुराक दी जानी चाहिए। पुणे, मुंबई, नासिक और राज्य के अन्य हिस्सों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। राज्‍य में प्रतिदिन 12 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्‍पादन होता है और राज्‍य में रोजाना 7 टन ऑक्‍सीजन लगता हैं। हम नजदीकी राज्यों से मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की मांग कर रहे हैं। अगर आवश्‍यकता पड़ी तो हमें उन उद्योगों को बंद करना होगा जहां ऑक्‍सीजन का उपयोग किया जाता है।'

इसी के साथ स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने आगे यह भी कहा कि, 'कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा रेमडेसिवर की प्रति डोज कीमत 1100 से 1400 के बीच है। हमें बड़ी मात्रा में रेमडेसिवर दवा भी चाहिए, राज्य में कोरोना इस दवा की 50 हजार डोज की खपत है।'

इसी के साथ राजेश टोपे ने यह भी कहा कि, 'इस समय महाराष्ट्र में 14 लाख वैक्सीन की डोज़ हैं जो अगले तीन दिन में खत्म हो जाएंगी। हमने हर हफ्ते 40 लाख वैक्सीन डोज़ की मांग की है। हम ये नहीं कह रहे हैं कि केंद्र वैक्सीन नहीं दे रहा है, लेकिन देने की रफ्तार काफी कम है। कोरोना संकट के वक्त किसी को राजनीति नहीं करनी चाहिए, अभी जो सख्ती की गई है उसपर मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की थी।' आपको हम यह भी बता दें कि मुंबई में बीते 24 घंटे में 10,030 नए मामले मिले हैं, जबकि 31 लोगों की मौत हो गई हैं।

भारतीय रेलवे अब इन राज्यों में चलाने जा रहा है स्पेशल ट्रेनें, 13 अप्रैल से शुरू होगी बुकिंग

राहुल गांधी का तंज, बोले- गाड़ी में ईंधन भरना भी एक इम्तेहान, इसपर चर्चा क्यों नहीं करते PM ?

भारत के पहले क्रांतिकारी थे मंगल पांडे