ओमीक्रॉन संक्रमण हो रहा तो बूस्टर डोज पर जल्दी विचार करे केंद्र सरकार: अजित पवार

मुंबई: कोरोना की दूसरी लहर अब नियंत्रण में आ चुकी है लेकिन इस बीच तीसरी लहर के आने के आसार दिखाई दे रहे हैं। इसी आसार को देखते हुए मुंबई, पुणे समेत महाराष्ट्र में प्रतिबंधों को जारी कर दिया गया है। आप सभी जानते ही होंगे कोरोना के नए ओमीक्रॉन वेरिएंट (Omicron) ने इस समय सरकार की चिंता बढ़ा दी है और इसी के चलते राज्य में नए प्रतिबंध लगाने की तैयारियां दिखाई दे रही हैं। आपको बता दें कि अब तक देश में 21 और राज्य में 8 ओमीक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित मरीज पाए जा चुके हैं। वहीं अब इन बातों को ध्यान में रखते हुए उपमुख्यमंत्री अजित पवार (Ajit Pawar) ने केंद्र सरकार से कोरोना रोधी वैक्सीन की बूस्टर डोज पर जल्दी फ़ैसले लेने की मांग की है।

इसी के साथ उन्होंने इंटरनेशनल एयरपोर्ट और फ्लाइट्स पर भी कड़े प्रतिबंध लगाने की अपील की है। जी दरअसल उन्होंने केंद्र सरकार से इस पर अपनी भूमिका स्पष्ट करने के लिए कहा है। आज भारत के संविधान के शिल्पकार डॉ. बाबासाहब आंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस (Mahaparinirvan Diwas) के अवसर पर मुंबई के दादर स्थित चैत्यभूमि पर जाकर अजित पवार ने भारत रत्न को श्रद्धांजलि दी और पत्रकारों से बातचीत की। इस दौरान बातचीत में उन्होंने कहा, ‘जिन लोगों ने वैक्सीन की दोनों डोज ली हुई थी, उन्हें भी संक्रमण हो रहा है। तो बूस्टर डोज की ज़रूरत है क्या? देश के पास डोज उपलब्ध हैं। ऐसे में राष्ट्रीय स्तर पर इस पर निर्णय लेना जरूरी है। अलग-अलग विशेषज्ञों के अलग-अलग मत हैं। बूस्टर डोज दिया जाए या नहीं? इसका केंद्र सरकार की ओर से कोई जवाब दिया जाना चाहिए।’

इसी के साथ उन्होंने कहा कि, ‘अलग-अलग राज्यों से जो संक्रमित लोग आते हैं, उन्हें लेकर केंद्र सरकार की ओर से कठोर फैसले किए जाने चाहिए। नियमों का पालन कड़ाई से हो रहा है या नहीं, यह अच्छी तरह से देखा-परखा जाए। जहां-जहां इंटरनेशनल एयरपोर्ट हैं, वहां नियमों और प्रतिबंधों को कड़े किए जाने की ज़रूरत है। हमारी केंद्र सरकार से मांग है कि वे इस पर सख्त रुख अपनाएं।’

आगे वह बोलते नजर आए, ‘कुछ दिनों से कई राजनीतिक परिवारों में शादियां हुईं। लोगों ने काफी भीड़ जुटाई थी। याद रखना चाहिए कि हम अब तक पांच से छह फुट की सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे थे। पिछली बार से सबक लेना चाहिए कि मास्क का इस्तेमाल छोड़ देने से संक्रमण बढ़ा था।’ अंत में उन्होंने कहा कि, ‘अब ओमीक्रॉन के नए खतरे को देखते हुए राष्ट्रीय स्तर पर सख्त निर्णय लिए जाने की ज़रूरत है। छोटे बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर बड़े फ़ैसले की ज़रूरत है। इस पर जल्दी केंद्र सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) अपनी भूमिका स्पष्ट करे।’

ओमीक्रॉन: मुंबई में जारी हुए कड़े नियम, घर से निकलने से पहले जरूर पढ़े

मुंबई टेस्ट: एजाज पटेल ने ही नहीं अश्विन ने भी की कुंबले के रिकॉर्ड की बराबरी।।।, बनाया ये कीर्तिमान

सोनू सूद को मिला BMC का नोटिस, एक्टर ने दिया ये जवाब

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -