औरंगाबाद ट्रेन हादसा: पटरी पर बिखरी रोटियां, दिल में घर पहुँचने की आस

औरंगाबाद: पूरे देश में कोरोना महामारी के बीच महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में शुक्रवार सुबह एक दर्दनाक हादसा हो गया और मालगाड़ी की चपेट में आने के बाद 16 श्रमिकों की दर्दनाक की मौत हो गई। जालना से भुसावल की तरफ पैदल जा रहे ये श्रमिक मध्य प्रदेश लौट रहे थे। ये सभी मजदूर रेल की पटरियों के किनारे चल रहे थे और थकान की वजह से पटरियों पर ही सो गए थे। यह हादसा सुबह सवा पांच बजे हुआ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, ये श्रमिक एक स्टील प्लांट में काम करते थे और लॉकडाउन के कारण ट्रेन की पटरियों से होते हुए अपने घर जा रहे थे। तक़रीबन 40 किलोमीटर पैदल दूरी तय करने के बाद जब ये श्रमिक थक गए तो सभी रेल की पटरी पर सो गए। मजदूरों ने कभी ये नहीं सोचा था कि उनकी जिंदगी का सफर रेल की पटरियों पर ही समाप्त हो जाएगा।

हादसे के बाद पटरी पर जो मंजर था, वो रोंगटे खड़े कर देने वाला था। हर ओर लाशों के चीथड़े और मजदूरों का सामन बिखरा पड़ा था। इसके अलावा पटरियों पर रोटियां बिखरी हुईं थी, जो मजदूर रास्ते में खाने के लिए लाए होंगे। दक्षिण सेंट्रले रेलवे के PRO का कहना है कि औरंगाबाद में कर्माड के निकट यह हादसा हुआ है, जहां मालगाड़ी का एक खाली डब्बा कुछ लोगों के ऊपर चल गया है और हादसे में पटरी पर सो रहे श्रमिक मारे गए।

पाकिस्तान में पेट्रोलियम पदार्थों के दाम घटे, वहीं भारत में इससे सरकारी खजाने भरने की कवायद

GSK ने हिन्दुस्तान यूनिलीवर की अपनी हिस्सेदारी बेची, 25480 करोड़ रुपये में हुई डील

SBI ने अपने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा, क़र्ज़ पर घटाई ब्याज दर

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -