यहाँ मन्नत पूरी होने पर माता के मंदिर में भक्तों ने दी 288 बकरों की बलि