रस्सी के 3 टुकड़े क्यों, किसने खोला दरवाजा ? नरेंद्र गिरी का नया 'वीडियो' सामने आने के बाद उठे ये बड़े सवाल

प्रयागराज: अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि की मौत की गुत्थी को सुलझाने की प्रक्रिया लगातार चल रही है. इस बीच एक वीडियो सामने आया है, जिसने इस मामले को और भी उलझा दिया है. बाघंबरी मठ के जिस कमरे में नरेंद्र गिरि का शव बरामद हुआ था, उसी कमरे का वीडियो सामने आया है, जो मौत के फ़ौरन बाद का है. लगभग डेढ़ मिनट के वीडियो में कमरे में बहुत सी चीज़ें फैली हुई नज़र आ रही हैं, महंत नरेंद्र गिरि का शव भी वहां पर है. वीडियो से प्राप्त विभिन्न जानकारियों के बाद कई सवाल खड़े हो रहे हैं, जिनके जवाब ढूंढे जा रहे हैं..., 

- महंत का शव पंखे से लटका हुआ था, पीले रंग की रस्सी को काटकर उनके शव को नीचे उतारा गया. ये रस्सी किसने काटी, रस्सी के तीन टुकड़े क्यों और किसने किए? नरेंद्र गिरि के गले में बंधी रस्सी किसने खोली?

- रस्सी पंखे के हुक से बंधी हुई थी, ऐसे में नरेंद्र गिरि इतनी ऊंचाई तक किस तरह पहुंचे? उन्हें गठिया रोग की शिकायत थी, उम्र भी अधिक थी ऐसे में ये सवाल उठना लाज़िमी है.

- मौत के दौरान नरेंद्र गिरि का मोबाइल फोन स्विच ऑफ क्यों था? 

- जिस कमरे में महंत का शव बरामद हुआ, उसका दरवाजा सबसे पहले किसने खोला? तत्काल पुलिस को सूचना क्यों नहीं दी गई?

- नरेंद्र गिरी के साथ सुरक्षा में चलने वाले पुलिसकर्मी उस समय कहां थे, जब दरवाजा तोड़ा गया और अंदर शव लटका मिला? 

 

बता दें कि महंत नरेंद्र गिरि की मौत के बाद के पुलिस ने वहां मौजूद लोगों से पूछताछ की थी. महंत नरेंद्र गिरि की चाचा प्रोफेसर महेश सिंह ने भी मौत को लेकर कई सवाल पूछे थे. महेश सिंह ने कहा कि नरेंद्र गिरि 10वीं पास थे, लिखना भी जानते थे. उनकी हैंड राइटिंग अच्छी नहीं थी, मगर वे लिख सकते थे. महेश सिंह ने कहा कि नरेंद्र गिरि ऐसे व्यक्ति नहीं थे, जो ख़ुदकुशी करें, ऐसे में जांच जरूरी होनी चाहिए. 

Video Credit:- Zee News

रायमोना नेशनल पार्क के 57 अवैैध शिकारियों ने किया आत्मसमर्पण, असम सरकार ने दी आर्थिक मदद

वरिष्ठ IPS पवन जैन को आज मिलेगा INVC अंतर्राष्ट्रीय सम्मान, जानिए उनके अहम योगदान

इंटरनेशनल डे ऑफ़ साइन लैंग्वेज: उन लोगों की 'भाषा', जो अपने कानों से नहीं सुन सकते

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -