महागठबंधन: पार्टियां अपनी सुविधा से स्टैंड बदल रही हैं

महागठबंधन: पार्टियां अपनी सुविधा से स्टैंड बदल रही हैं


जनसेना पार्टी के प्रमुख पवन कल्याण ने खुद को किंग मेकर करार दिया है. उनके अनुसार आंध्र प्रदेश के अगामी विधानसभा चुनावों में कर्नाटक जैसे हालत होंगे और उस समय उनकी बड़ी भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता. उनके अनुसार राज्य में टीडीपी और वाईएसआरसीपी के बीच पार्टी किंगमेकर की भूमिका अदा करेगी. अभिनेता से राजनेता बने पवन कल्याण ने कहा, "आंध्र के परिणाम कर्नाटक से बेहतर होंगे. हम कर्नाटक से बेहतर प्रदर्शन करेंगे. चुनावों में जनसेना महत्वपूर्ण रोल निभाएगी. हमारी वजह से ही टीडीपी ने सरकार बनाई थी. अब उनके वोट शेयर में 14-16 प्रसेंट की गिरावट आएगी."

कल्याण ने आगे कहा, "2009 में मेरे परिवार ने प्रजा राज्यम पार्टी का गठन किया था और 25 प्रसेंट वोट हासिल किए थे. इनमें से अधिकतर वोट आंध्र प्रदेश में हासिल हुए थे. हमारे पास बड़ी ताकत है. हमने सभी कमियों को देखा है. अतीत के अनुभव के आधार पर हम 2019 में सभी 175 सीटों पर लड़ने की योजना बना रहे हैं." 2014 में जनसेना चीफ ने बीजेपी-टीडीपी गठबंधन में शामिल थे मगर आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य के दर्जे की मांग पर उनकी दोस्ती टूट गई और पवन कल्याण ने सभी सीटों पर लड़ने का एलान कर दिया. 

महागठबंधन पर पवन कल्याण ने कहा कि राजनीतिक पार्टियां अपनी सुविधा के अनुसार अपना स्टैंड बदल रही हैं. किसी भी राजनीतिक पार्टी की विचारधारा तय नहीं है. किसी को स्पष्ट रूप से पता नहीं है कि वे क्या कर रही हैं. उन्होंने कहा कि जिस तरह लेफ्ट आम लोगों से जुड़े मुद्दों के लिए काम करता है, मैं उनके साथ जाना पसंद करूंगा. जहां तक दूसरी पार्टियों का सवाल है तो इनमें कोई मित्र या दुश्मन नहीं है.

महागठबंधन: दो सवाल अभी भी दिक्कत दे रहे है

नीतीश को मना करने वाले तेजस्वी कौन होते हैं-कांग्रेस

जनता ने इंदिरा को भी हरा दिया था-शरद पंवार

 

?