भगवान कृष्ण के श्राप से आज भी दर-दर भटक रहे हैं अश्वत्थामा, करते है शिव जी की पूजा