क्या अफसरों और मंत्रियों से कम है HC के जजों की प्रतिष्ठा, जज के शपथग्रहण में ऐसे छिड़ा विवाद

Aug 13 2018 12:06 PM
क्या अफसरों और मंत्रियों से कम है HC के जजों की प्रतिष्ठा, जज के शपथग्रहण में ऐसे छिड़ा विवाद

नई दिल्ली : कल मद्रास हाई कोर्ट को चीफ जस्टिस विजय कमलेश के रूप में एक नया जज मिला . कल चेन्नई में चीफ जस्टिस विजय कमलेश ताहिलरामानी के शपथग्रहण समारोह का आयोजन किया गया था. जहां उन्होंने मद्रास हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के रूप में शपथ ली. हालांकि कुछ समय बाद ही यह शपथग्रहण समारोह विवादों की भेंट चढ़ गया. विवाद की असल वजह बैठक व्यवस्था बताई जा रही है. 

अलविदा चटर्जी : पीएम, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राहुल ने ऐसे किया याद

चीज जस्टिस ताहिलरामानी के शपथ ग्रहण समारोह की बैठक व्यवस्था पर बाद में कुछ न्यायमूर्तियों ने सवाल खड़े कर दिए. प्राप्त मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक जज द्वारा व्हाट्सअप ग्रुप पर इस सम्बन्ध में जानकारी दी गई. साथ ही इस पर जज ने गुस्सा भी जाहिर किया. 

जस्टिस गीता मित्तल ने चीफ जस्टिस के रूप में ली शपथ

बता दे कि शपथग्रहण समारोह में जजों की सीटिंग पुलिस अफसरों के पीछे थी, इस पर जस्टिस एमएस रमेश ने आधिकारिक व्हाट्सएप ग्रुप में मैसेज करते हुए अपना गुस्सा जाहिर किया. जहां न्याययमूर्ति रमेश ने लिखा कि वह इस बैठक व्यवस्था से निराश है. जो कि एक गंभीर मामला है. उन्होंने सवाल खड़े करते हुए कहा कि क्या न्यायमूर्तियों का पद और मान-सामना या प्रतिष्ठा मंत्रियों और पुलिस के अफसरों से कम होती है. जस्टिस रमेश ने इस दौरान काफी निराश होती हुए कहा कि क्या राजभवन संवैधानिक पदों पर बैठे जज और पुलिस अफसरों की हैरारिकी से परिचित नहीं है. 

खबरें और भी...

जस्टिस केएम जोसेफ को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना

जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश बनी गीता मित्तल