कोरोना की तीसरी लहर आने की स्थिति में ऑक्सीजन के लिए भटकना नहीं पड़ेगा: शिवराज सिंह चौहान

रायसेन: मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर अब काफी हद तक कमजोर हो चुकी है। जी दरअसल हाल ही में इस बारे में बात करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'जनता के सहयोग से हमने कोरोना संकट का सामना किया है। ऑक्सीजन आपूर्ति हो या दवाओं इंजेक्शन की व्यवस्था, जन-सहयोग से हमने कठिनतम परिस्थितियों का सफलतापूर्वक सामना किया है।' इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा, ''कोरोना के संकट में कई परिवारों ने अपने मुखिया को खोया है। राज्य सरकार ने ऐसे परिवारों की सहायता की हर संभव कोशिश की है। शासकीय कर्मचारियों को अनुकंपा नियुक्ति प्रदान की गई है। अनाथ हो गए बच्चों को भी आवश्यक आर्थिक सहायता के साथ उनकी पढ़ाई आदि की व्यवस्था की गई है।''

आप सभी को बता दें कि हाल ही में CM चौहान ने रायसेन जिले के बेगमगंज सिविल अस्पताल में जन-सहयोग से स्थापित ऑक्सीजन प्लांट का निवास से वर्चुअल लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार मानते हुए उन्होंने कहा, 'ऑक्सीजन की कमी के समय उन्होंने ऑक्सीजन रेल चलाकर खाली ऑक्सीजन टैंकरों का वायुसेना के विमानों से परिवहन कराते हुए ऑक्सीजन की आपूर्ति प्रदेश में अनवरत जारी रखी।'

आप सभी को बता दें कि बेगमगंज के सिविल अस्पताल में स्थापित ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता 100 एलपीएम है। जी दरअसल इसके माध्यम से 15 बिस्तरों में ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति संभव होगी। बता दें कि ऑक्सीजन प्लांट की लागत लगभग 29 लाख रुपये है और इसके लिए 165 दानदाताओं द्वारा सहयोग राशि प्रदान की गई है। ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'प्रदेश में अब तक 163 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए जा चुके हैं, जिससे 182 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उत्पादन सुनिश्चित हुआ है। अब कोरोना की तीसरी लहर आने की स्थिति में हमें ऑक्सीजन के लिए कहीं भटकना नहीं पड़ेगा।'

आम आदमी की जेब पर महंगाई की कैंची, लगातार 7वें दिन बढे पेट्रोल-डीजल के दाम

लद्दाख में अभी ख़त्म नहीं होगा गतिरोध, भारत-चीन की 8 घंटे बात चली, पर नहीं निकला समाधान

9वीं में हुए फेल, मैगी खाकर काटे दिन... जानिए कैसे हार्दिक पांडया ने टीम इंडिया में बनाई जगह

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -