जन्मदिन विशेष : 400 कमरों के महल में रहते थे माधवराव, लगा है 3500 किलो का झूमर

देश की बड़ी रियासतों में शामिल ग्वालियर के महाराजा और कांग्रेस के दिगज नेताओं में शुमार श्रीमंत माधवराव सिंधिया आज हमारे बीच तो नहीं हैं, लेकिन वे आज भी अपनी राजनीतिक पकड़ और शाही जिंदगी के लिए पहचाने जाते हैं. 10 मार्च को उनका जन्मदिन हैं, तो आइए जानते हैं उस शाही महल के बारे में जिसमें वे रहते थे...

- माधवराव के शाही महल का नाम जयविलास पैलेस हैं और यह साल 1874 में बना था. 
- 400 कमरे वाला यह महल पूरी तरह स सफ़ेद रंग का है और यह 12 लाख वर्ग फीट में फैला हुआ है. 
- जब यह बना था, तब इसकी कीमत 1 करोड़ रुपए थी. 
- इस पैलेस के 400 कमरे में से 40 कमरों में अब म्यूजियम है. 
- इस पैलेस का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा इसका दरबार हॉल है. 
- महल की एक ख़ास बात यह भी हैं कि जयविलास पैलेस में राॅयल दरबार की छत पर 140 सालों से 3500 किलो का झूमर टंगा हुआ है. 
- दुनिया के सबसे बड़े झूमरों में अपना स्थान रखने वाला यह झूमर बेल्जियम के कारीगरों ने तैयरा किया था. 
- 3500 किलो के झूमरों को छत पर टांगने से पहले अजीब प्रयोग हुआ था, जिसमे पहले इंजीनियरों ने छत पर 10 हाथी चढ़ाकर देखे थे कि छत वजन सह पाती है या नहीं. 10 हाथी द्वारा 7 दिनों तक छत की परख की गई, इसके बाद झूमर लगाया था. 
महल के डाइनिंग हॉल में चांदी की ट्रेन भी है जो खाना परोसने के काम आती हैं. 
- बताया जाता हैं कि इस पैलेस का निर्माण इंग्लैंड के शासक एडवर्ड-VII के भारत आने पर 1874 में कराया गया था. 

 

राजस्थान: कांग्रेस का मिशन लोकसभा, सोशल मीडिया बनेगी पतवार

भाजपा नेता बुक्कल नवाब ने किया हनुमान चालीसा का पाठ, उनके पिता ने बनवाया था मंदिर

हिंदुस्तान में कैद मसूद अज़हर को किसने किया था रिहा, जवाब दें पीएम मोदी- राहुल गाँधी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -