माँ को खोने का बाद बॉक्सिंग में बनाया करियर, इस मामले में जेल भी जा चुके है माइक टायसन

विश्व के सबसे सफल व सबसे खतरनाक मुक्केबाजों में से एक माइक टायसन आज यानी कि 30 जून को अपना 54वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे है। इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटेनिका के अनुसार, माइक टायसन का जन्म आज ही के दिन यानी 30 जून, 1966 को न्यूयॉर्क (अमेरिका) के ब्रुकलिन में हुआ था। टायसन ने अपने प्रोफेशनल मुक्केबाजी करियर में कुल 58 फाइट लड़ीं, इसमें से वो 50 में जीते और 6 में हार भी गए थे। जिसमे से 44 फाइट नॉकआउट जीत थीं। वर्ष 1989 में टायसन को सेंट्रल स्टेट यूनिवर्सिटी (ओहाइयो) ने मानद उपाधि से सम्मानित कर दिया गया। कहा जाता है कि जब टायसन का जन्म हुआ तो उनके पिता घर छोड़कर जा चुके थे। तब से उनकी देखभाल उनकी मां करती थीं लेकिन वो भी हमेशा उनको लेकर परेशान रहीं क्योंकि टायसन घर पर बहुत कम आया करते थे। उनका पूरा दिन सड़कों पर मारपीट करने में बीत रहा था। वह बचपन से ही बहुत शरारती थे, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स का कहना है कि टायसन 13 वर्ष की आयु तक कई बार पुलिस की हिरासत में चले गए थे।

दुष्कर्म के मामले में गए जेल: टाइसन जब 16 वर्ष के हुए तो उनकी मां का देहांत हो गया था। इसके कुछ दिन के उपरांत उनकी मुलाकात एक पूर्व मुक्केबाज बॉबी स्टीवर्ट से हुई और उन्होंने उनकी प्रतिभा को समझा और उन्हें ट्रेनिंग देने लग गए। जब टाइसन की मुक्केबाजी हर जगह पॉपुलर होने लगी तो कुछ अन्य दिग्गज कोच भी उनके साथ जुड़ गए थे। 1985 में 18 वर्ष की आयु में टायसन को अपना पहला पेशेवर मुक्केबाजी मैच खेलने का अवसर दिया गया। उन्होंने अपने पहले ही मैच में शानदार मुक्केबाज हेक्टर मर्सिडीज को पहले ही राउंड में चित कर चुके थे। इसी तरह टायसन का करियर तेजी से आगे बढ़ता रहा लेकिन वक़्त- वक़्त पर वह विवादों में भी घिरते हुए दिखाई दिए। 1991 में टायसन को 18 वर्ष की एक युवती के साथ दुष्कर्म के केस में हिरासत में ले लिया गया था। उन्हें छह साल जेल की सजा सुनाई गई लेकिन 1995 में उन्हें आखिरकार रिहा किया गया था।

जेल से बाहर आने के बाद भी कम नहीं हुई पॉपुलैरिटी: जेल से बाहर आने के बाद टायसन की फैन फॉलोविंग कम तो नहीं हुई लेकिन और बढ़ती चली गई। बॉक्सिंग रिंग में वापसी करने के उपरांत उन्होंने खूब कारोबार भी किया। एक बार सिर्फ एक फाइट से उन्होंने 96 मिलियन डॉलर तक का कारोबार कर लिया। बता दें कि 1996 में इवेंडर हॉलीफील्ड ने टायसन को विश्व हेवीवेट खिताब की फाइट में हराकर दुनिया में हंगामा मचा दिया था। इस हार के उपरांत टायसन बहुत गुस्से में थे। इसके आए वाले वर्ष दोनों के मध्य फिर से मुकाबला हुआ, इसमें टायसन ने अपने दांतों से हॉलीफील्ड का एक कान का भाग  काट लिया। इस घटना के रेफरी ने तुरंत टायसन को डिसक्वालीफाइ कर दिया। जिसके उपरांत कुछ वक़्त के लिए उनका बॉक्सिंग लाइसेंस भी रद्द कर दिया गया था। 1998 में टाइसन दो मोटरसाइकिल चालकों की पिटाई करने के मामले में फिर जेल गए, जबकि एक फाइट में अपने विरोधी मुक्केबाज का हाथ तोड़ने का प्रयास भी किया। इसी तरह वह अपनी निजी जिंदगी में खूब विवादों में भी रह चुका है ।

क्या T20 टीम से बाहर कर दिए जाएंगे कोहली-रोहित और राहुल ?

मूसेवाला हत्याकांड: 21 साल का कबड्डी खिलाड़ी गिरफ्तार, लॉरेंस बिश्नोई के करीबी को दिए थे हथियार

T20 वर्ल्ड कप में जडेजा को नहीं मिलेगा मौक़ा ! IPL 2022 में निराशाजनक रहा था प्रदर्शन

Most Popular

- Sponsored Advert -