24 अक्टूबर को है अष्टमी और महानवमी, जानिए माँ महागौरी की कथा

Oct 23 2020 04:00 PM
24 अक्टूबर को है अष्टमी और महानवमी, जानिए माँ महागौरी की कथा

नवरात्री का पर्व हर साल मनाया जाता है और यह पर्व इन दिनों चल रहा है। ऐसे में कल यानी 24 अक्टूबर को अष्टमी और नवमी एक साथ मनाई जाने वाली है। आपको बता दें कि नवरात्रि के अष्टमी वाले दिन माता महागौरी का पूजन किया जाता है। वहीँ नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा होती है। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं माता महागौरी की कथा।

माता महागौरी की कथा- कहते हैं भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए महागौरी ने कठोर तपस्या की थी और ऐसा करने के कारण इनका शरीर काला पड़ गया था। वहीँ उस समय महागौरी की कठोर तपस्या करने से महादेव प्रसन्न हो गए थे और माता की प्रार्थना स्वीकार कर ली थी। वहीँ उस समय माता के शरीर का रंग तपस्या से काला हो जाने के कारण महादेव ने उन्हें गंगाजल से धोया था जिसके बाद महागौरी वापस गोरे रंग वाली हो गईं। इसी के कारण माता का नाम महागौरी पड़ गया। कहा जाता है अष्टमी के दिन व्रत रखने से भक्तों को उनका मनचाहा जीवनसाथी मिलता है।

महागौरी की एक अन्य कथा भी प्रचलित है। इसके अनुसार जब मां उमा जंगल में तपस्या कर रही थीं, तभी एक शेर वन में भूखा घूम रहा था। खाने की तलाश में वहां पहुंचा जहां मां तपस्या में लीन थी। देवी को देखकर शेर की भूख बढ़ गई और शेर उनके तपस्या पूरी करने का इंतजार करने लगा। इस इंतजार में वह काफी कमजोर हो गया। देवी जब तप से उठी तो शेर की दशा देखकर उन्हें उस पर बहुत दया आई। मां ने उसे अपनी सवारी ली और एक प्रकार से उसने भी मां के साथ तपस्या की थी। इसलिए देवी महागौरी का वाहन बैल और सिंह दोनों ही हैं।

'शी जिनपिंग' का वध करती दिखीं माँ दुर्गा, थरूर ने सोशल मीडिया पर शेयर की तस्वीर

आज इस विधि से करें माता के कालरात्रि रूप की उपासना

आखिर क्यों की जाती है नाबापत्रिका पूजा? जानें इसका महत्‍व