आज जरूर पढ़े मां कालरात्रि की कथा-आरती-मंत्र और कवच पाठ

आज नवरात्रि का सांतवा दिन है। कहा जाता है इस दिन मां कालरात्रि का पूजन करने से सभी प्रकार के भी से मुक्ति मिलती है। आज के दिन मां कालरात्रि अपने भक्तों को उनके द्वारा मांगा गया वरदान देती हैं। तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं मां कालरात्रि की कथा, उनके मंत्र, उनका कवच और उनकी आरती।

मां कालरात्रि की कथा- कहते हैं एक समय में रक्तबीज नामक राक्षस का देवताओं में आतंक था। रक्तबीज दानव की विशेषता यह थी कि जब उसके खून की बूंद धरती पर गिरती थी तो बिलकुल उसके जैसा दानव बन जाता था। रक्तबीज के आतंक से बचने के लिए देवता भगवान शिव के पास पहुंचे। शिवजी जानते थे कि इस दानव का अंत माता पार्वती कर सकती हैं। शिव जी ने माता से अनुरोध किया। इसके बाद मां पार्वती ने स्वंय शक्ति संधान किया। इस तेज ने मां कालरात्रि को उत्पन्न किया। जब मां कालरात्रि ने रक्तबीज का संहार किया तो उसके शरीर से निकलने वाले रक्त को मां स्वयं पी गई। इस प्रकार से मां ने रक्तबीज जैसे आतातायी राक्षस का वध किया।


मां कालरात्रि के मंत्र-

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कालरात्रि रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

एक वेधी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकणी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।।

वामपदोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा।
वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी।।

देवी कालरात्रि के कवच-

ऊँ क्लीं मे हृदयं पातु पादौ श्रीकालरात्रि।
ललाटे सततं पातु तुष्टग्रह निवारिणी॥

रसनां पातु कौमारी, भैरवी चक्षुषोर्भम।
कटौ पृष्ठे महेशानी, कर्णोशंकरभामिनी॥

वर्जितानी तु स्थानाभि यानि च कवचेन हि।
तानि सर्वाणि मे देवीसततंपातु स्तम्भिनी॥

देवी कालरात्रि की आरती -

कालरात्रि जय-जय-महाकाली।
काल के मुह से बचाने वाली॥

दुष्ट संघारक नाम तुम्हारा।
महाचंडी तेरा अवतार॥

पृथ्वी और आकाश पे सारा।
महाकाली है तेरा पसारा॥

खडग खप्पर रखने वाली।
दुष्टों का लहू चखने वाली॥

कलकत्ता स्थान तुम्हारा।
सब जगह देखूं तेरा नजारा॥

सभी देवता सब नर-नारी।
गावें स्तुति सभी तुम्हारी॥

रक्तदंता और अन्नपूर्णा।
कृपा करे तो कोई भी दुःख ना॥

ना कोई चिंता रहे बीमारी।
ना कोई गम ना संकट भारी॥

उस पर कभी कष्ट ना आवें।
महाकाली माँ जिसे बचाबे॥

तू भी भक्त प्रेम से कह।
कालरात्रि माँ तेरी जय॥

आज इस विधि से करें मां कालरात्रि की पूजा, जानिए भोग-स्वरूप और ध्यान मन्त्र

पीयूष गुर्बेले और रुपेश सोनी बने 'डांस दीवाने 3' के विनर, कार के साथ मिले इतने रुपए

महाकालेश्वर मंदिर में महिला ने बनाया शर्मनाक वीडियो, अब मांगी माफ़ी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -