मिला 700 साल पुराना खजाना

हम सभी कभी-कभी यह सोचते हैं कि कोई खजाना मिल जाए तो कितना अच्छा रहे, लेकिन ऐसा हमारे साथ होता नहीं है। वैसे हाल ही में ऐसा हुआ है। जी दरअसल इंडोनेशिया के मछुआरों ने सुमात्रा द्वीप के पास बहुमूल्य खजाने की खोज की है। आप सभी को बता दें कि मछुआरों को मुसी नदी के अंदर से सैकड़ों साल पुराने रत्न, सोने की अंगूठियां, सिक्के, मूर्तियां और बौद्ध भिक्षुओं की कांस्य की घंटियां मिली हैं। आपको बता दें कि मुसी नदी खतरनाक मगरमच्छों से भरी पड़ी है।

एक मशहूर वेबसाइट की रिपोर्ट को माने तो बीते 5 सालों से पालेमबांग (Palembang) के पास मछुआरे मुसी नदी में इस खजाने की खोज में जुटे थे। कुछ दिन पहले मछुआरों को नदी की गहराई से खजाना मिल गया। इसमें रत्न, अंगूठियां, सिक्के और कई वस्तुएं मिली हैं। केवल यही नहीं बल्कि इसमें एक 8वीं शताब्दी की गहनों से सजी भगवान बुद्ध की आदमकद प्रतिमा भी मिली है, जिसकी कीमत लाखों पाउंड में है। आप सभी को बता दें कि इंडोनेशिया के मछुआरों ने सुमात्रा द्वीप के पास इस बहुमूल्य खजाने की खोज की है।

आपको बता दें कि मछुआरों को मुसी नदी के अंदर से सैकड़ों साल पुराने रत्न, सोने की अंगूठियां, सिक्के, मूर्तियां और बौद्ध भिक्षुओं की कांस्य की घंटियां भी मिली हैं। बीते 5 सालों से पालेमबांग (Palembang) के पास मछुआरे मुसी नदी में इस खजाने की खोज में जुटे थे और आखिरकार उनकी मेहनत रंग लायी। एक ब्रिटिश समुद्री पुरातत्वविद् डॉ सीन किंग्सले का कहना है- 'खोजकर्ताओं ने श्रीविजय राजवंश के खजाने के लिए थाईलैंड और भारत तक दूर-दूर तक खोज की, लेकिन सफल नहीं हुए।' किंगस्ले का कहना है ये सुमात्रा के गायब स्वर्ण द्वीप की खोज है।

लड़की के गले में अटका हॉट डॉग, हुई मौत!

जेल की अवधि खत्म होने के बाद 4 साल बाद पटना लौटे लालू प्रसाद यादव

कंपनी का दावा: अब अमर रहेगा मनुष्य

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -