जबलपुर में भी स्थापित हुआ LPR, घनुष-सारंग जैसे हथियारों की हुई टेस्टिंग

Feb 21 2020 05:39 PM
जबलपुर में भी स्थापित हुआ LPR, घनुष-सारंग जैसे हथियारों की हुई टेस्टिंग

जबलपुर: मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर के नाम पर आज एक बड़ी उपलब्धि दर्ज हो गई. जबलपुर के खमरिया में देश का तीसरा टेस्ट फायर रेंज (लॉन्ग प्रूफ रेंज, LPR) बन गया है. अब इस फायरिंग रेंज में 155 MM बैरल वाले बड़े हथियारों का परिक्षण किया जा सकेगा. सारंग आर्टिलरी गन और धनुष तोप का जबलपुर फायरिंग रेंज पर सफल परिक्षण आज पूरा कर लिया गया है . 

इससे पहले ओडिशा के बालासोर और इटारसी में ही LPR  थे. अब जबलपुर में भी LPR है. आर्मी के डीजी क्वालिटी एश्योरेंस संजय चैहान की उपस्थिति में जबलपुर LPR पर धनुष तोप और सारंग गन की सफल फायर टेस्टिंग की गई. आपको बता दें कि घनुष तोप और सारंग आर्टिलरी गन को जबलपुर के ही आयुध कारखाने (Ordinance Factory) में तैयार किया जाता है.  'गन कैरिज फैक्ट्री' में 155 MM कैलिबर वाली सारंग गन और धनुष तोप को अपग्रेड किया गया है.

'मेक इन इंडिया' प्रोग्राम के तहत सारंग और धनुष को पूर्णत: स्वदेशी तकनीक से तैयार किया गया है. ये दोनों ही हथियार अत्याधुनिक तकनीक से लैस हैं. अभी तक सारंग रशिया मेड गन थी.  पहले सारंग गन का बैरल 130 MM का था और इसकी मारक क्षमता 27 किमी थी. अपग्रेडेशन के दौरान सारंग के बैरल को 25 MM बढ़ाकर 155 एमएम किया गया है. अब इसकी मारक क्षमता भी 27 किमी से 39 किमी हो गई है. 

कोरोना वायरस : इटली के इस क्षेत्र में पाए गए दो नागरिक संक्रमित

बुर्का पहनने पर श्रीलंका में लग सकती है रोक, जानिए क्या है वजह

अगर आपके घर में है बिटिया, तो सरकार दे रही 6 लाख रुपए, इस तरह करें आवेदन