एमपी के इस शहर में किराना आपूर्ति के लिए खुलेंगी डेढ़ हजार दुकानें

मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में कोरोना का सबसे ज्यादा असर देखने को मिल रहा है. वही लगातार मामले बढ़ने से लॉकडाउन की अवधि को बढ़ा दिया गया है. वही लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ने के बाद कई घरों में किराने का सामान भी खत्म होने लगा है और लोग परेशान हो रहे हैं. उनकी सुविधा के लिए प्रशासन शहर में डेढ़ हजार किराना दुकानें खुलवाने की तैयारी कर रहा है. लेकिन रहवासी संघ, सामाजिक संस्था, राजनीतिक संगठनों के नेटवर्क के जरिए सामान की होम डिलिवरी होगी. इसके लिए प्रशासन ने पूरी योजना तैयार की है. फिलहाल पूर्वी क्षेत्र और विजय नगर व आसपास के इलाकों में यह प्रयोग किया जाएगा. अभी शहर में राशन घरों तक पहुंचाने का काम नगर निगम कर रहा है. निगम ने क्षेत्र की दुकानों को जोड़ा है, लेकिन फिर भी किराना सामान की डिमांड ज्यादा है. व्यवस्थाएं बेहाल करने के लिए संगठनों के कायकर्ताओं की मदद ली जाएगी. इसे लेकर रेसीडेंसी कोठी में बैठक की गई है और क्षेत्रवार संगठनों के कार्यकर्ताओं के नामों की लिस्ट भी बनाई गई है. किराना सप्लाई के लिए बूथवार प्लानिंग हो रही है. सांसद शंकर लालवानी ने बताया कि दुकानदारों के पास भी सीमित संसाधन है. उन्हें लोडिंग रिक्शा की व्यवस्था नगर निगम कराएगा.

आपको बता दें की सामान पैक करने और घरों तक पहुंचाने में भी ज्यादा परेशानी हो रही है. इसे देखते हुए रहवासी संघों व संगठनों को जोड़ा जा रहा है. जरूरतमंद वॉट्सएप या पर्ची के माध्यम से किराना दुकानदार को सामान की लिस्ट देंगे. सामान पैक होने के बाद उस एरिया के संगठन के कार्यकर्ता जरूरतमंद तक सामान पहुंचाएंगे और उसके बदले में राशि व्यापारी को देंगे. दुकानों पर किसी भी तरह की भीड़ नहीं लगने दी जाएगी.


इस व्यवस्था के लिए इंदौर नगर निगम की टीम पूरी तरीके से तैयारी में जुट गई है. इंदौर नगर निगम की टीम हर स्तर पर किराना सप्लाई सिस्टम की निगरानी करें. वार्ड प्रभारी यह भी देखें कि सप्लाई के लिए जो जरूरी 15 सामग्रियां हैं, उनका तीन दिन का स्टॉक दुकानदार के पास है भी या नहीं? यदि किसी के पास तीन दिन का राशन नहीं है तो सामग्री के प्रभारी से बात कर दुकान पर माल का स्टॉक करवाएं. अब सिस्टम जम गया है और केवल माइक्रो लेवल मॉनीटरिंग की जरूरत है. हर दुकान का डेटा अपडेट रखें. ये निर्देश निगमायुक्त आशीष सिंह ने बुधवार को नेहरू स्टेडियम में किराना सामग्री सप्लाई को लेकर हुई बैठक के दौरान दिए. उन्होंने कहा कि जोनल अधिकारी सुनिश्चित करें कि नागरिकों से ऑर्डर मिलने के बाद किसी भी स्थिति में उसी दिन या दूसरे दिन सुबह 11 बजे तक ऑर्डर की डिलिवरी हर हालत में हो जाए. यदि कोई दुकानदार सप्लाई में आनाकानी करता है या ऑर्डर लेने के बाद माल नहीं भेजता तो उसकी दुकान सील की जाए. उसे दिए गए कर्फ्यू पास वापस लिए जाएं.

भोपाल गैस कांड से जुड़े इन लोगों ने गवाई कोरोना से जान

आंध्र प्रदेश : राज्य में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 502 हुई, इतने नए मामले आए सामने

मध्य प्रदेश में आज से शुरू हुई गेहूं की खरीदी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -