हिन्दू दोस्त की पत्नी को कंधा देकर मुस्लिम रोजेदारों ने पेश की मिसाल

कोरोना संक्रमण के इस समय में कोई भी किसी की सहायता नहीं कर पा रहा है. वहीं, इस खतरनाक संक्रमण के बीच सगे संबंधी अपने रिश्तेदारों के अंतिम संस्कार करने से कतराते हैं. संकट के इस समय में भोपाल के मुस्लिम युवाओं ने अपने हिंदू दोस्त की पत्नी को कंधा दिया और अंतिम संस्कार में मदद की. सभी रोजेदार युवाओं ने यह मिसाल मंगलवार पेश की है. महिला की सोमवार रात मालगाड़ी ट्रेन से कटने से मौत हो गई थी. यह घटना भानपुर ब्रिज के नीचे की है.

दरअसल भोपाल के छोला मंदिर थाना के एसआई वीरेंद्र सिंह ने बताया कि मृतक महिला का नाम अन्नू प्रजापति है. वह जहांगीराबाद क्षेत्र में डेढ़ महीने से रहती थी. सोमवार शाम को घर से निकल गई थी. पुलिस को उसके ट्रेन से कटने की सूचना मिली थी. छानबीन में पता चला कि उसका विवाह बरखेड़ी निवासी राज प्रजापति के साथ हुआ था उसकी चार साल की एक बेटी भी है. डेढ़ महीने से वह अलग रह रही थी. इसको लेकर पति-पत्नी के बीच कोई करार भी हुआ था. महिला ने ट्रेन के सामने आकर आत्महत्या कर ली. पोस्ट मार्टम कराने के बाद मंगलवार उसका शव उसके पति राज प्रजापति के सुपुर्द कर दिया था. आखिरी वक्त में पति अकेला पड़ गया.

बता दें की उसकी पत्नी की मौत ट्रेन से कटकर हुई थी, फिर भी लोग अंतिम संस्कार के लिए आगे नहीं आए तो मुस्लिम युवा यासिर अली बहादुर, सद्दाम कुरैशी, अनीस, रईस समेत अन्य युवाओं ने छोला विश्राम घाट पर अंतिम संस्कार कराया. इस दौरान राज प्रजापति व उसके दो तीन अन्य दोस्त भी मौजूद थे. यासिर अली बहादुर ने बताया कि कोई कुछ भी सोचे, अभी संकट का दौर चल रहा है. एक-दूसरे से शारीरिक दूरी बनाकर मदद करने का वक्त है. हम लोगों ने अंतिम संस्कार में मदद की है. अन्य साथियों ने भी हिस्सा लिया.

जबलपुर में 3 नए मामले आए सामने, 108 हुई कोरोना मरीजों की संख्या

कोरोना की जांच रिपोर्ट में समय लगने पर हाई कोर्ट में जनहित याचिका की गई दायर

सरकार के एलान के बावजूद नहीं खुली शराब की दुकानें, अब तक 1800 करोड़ का हुआ घाटा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -