हिंसा और आगज़नी के बाद, मराठा मोर्चा ने वापिस लिया मुंबई बंद

Jul 25 2018 03:09 PM

मुंबई: देश की आर्थिक राजधानी मुंबई से मराठा आंदोलन की भयानक तस्वीरें आ रही है. बुधवार का दिन मुंबईवासियों के लिए कई परेशानियां लेकर आया. सरकारी नौकरी और शिक्षा के क्षेत्र में आरक्षण की मांग करता मराठा समुदाय, आज मुंबई में हिंसक हो गया, जिसके चलते कई इलाकों में आगजनी, हिंसा, तोड़फोड़, आदि की घटनाएं दर्ज की गई. वहीं इस मामले में अब राजनितिक दखल भी हो गया है, केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले ने मराठियों के आरक्षण की मांग का समर्थन किया है, उन्होंने शांतिपूर्वक प्रदर्शन की अपील करते हुए कहा कि हम इसे एनडीए के साथ उठाएंगे. 

आरक्षण की आग में झुलसा महाराष्ट्र, इंटरनेट सेवाएं ठप्प

वहीं इससे पहले उपद्रवियों ने सायन-पनवेल हाइवे पर एक गाड़ी को आग के हवाले कर दिया गया, पुणे-गोवा के हाइवे को जोड़ने वाले सायन-पनवेल रोड पर पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया, जिसके जवाब में प्रदर्शनकारियों सायन-पनवेल हाइवे पर पथराव भी किया. मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे ब्लॉक कर दिया गया है बताया जा रहा है कि ठाणे और वाशी के बीच चलने वाली ट्रेनें रद्द की जा सकती हैं.

महाराष्ट्र बंद : मराठा आंदोलन के दौरान बड़े हमले की साजिश नाकाम

बेस्ट बस के डाटा के मुताबिक अभीतक कुल 9 बसों के साथ तोड़फोड़ और आगजनी की गई है. इस आंदोलन में एक पुलिसकर्मी सहित 3 लोगों की मौत हो गई है. मंगलवार 2 प्रदर्शनकारियों ने गोदावरी नदी में कूदकर आत्महत्या कर ली थी, वहीं एक पुलिस कांस्टेबल पथराव में घायल होकर शहीद हो गया है. मुंबई में मराठा आंदोलन में हो रही हिंसा रोकने के लिए 30 हज़ार विशेष सुरक्षा बल और सवा लाख पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है, जो हालात को नियंत्रण में लाने की मशक्कत में लगे हुए हैं. हालाँकि ताज़ा खबर के अनुसार मराठा क्रांति मोर्चा ने मुंबई बंद वापिस ले लिया है, बताया जा रहा है कि मुंबई की जनता को असुविधा से बचाने के लिए मराठा मोर्चा ने ये कदम उठाया है. 

खबरें और भी:-

मुंबई पहुंची मराठा आंदोलन की लपटें, एक कांस्टेबल की मौत

उग्र हुआ मराठा आरक्षण, मुंबई बंद का ऐलान

SATIRE: आरक्षण की राजनीति या राजनीति का आरक्षण