इस जन्माष्टमी ऐसे बनाएं अपनी बेटी को राधा-रानी..

देशभर में जन्माष्टमी का त्योहार 23 और 24 अगस्त को मनाया जाएगा. इसके लिए लोग कई तरह की तैयारियां कर रहे हैं. भगवान कृष्णा का जन्म भाद्रपद मास के कष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को आधी रात को हुआ था. इसी दिन को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है. बता दें, जन्माष्टमी के पर्व पर मंदिरों, स्कूलों और धार्मिक स्थलों पर झांकियों का आयोजन किया जाता है. इस के चलते छोटे-छोटे बच्चे भगवान कृष्णा और राधा के रूप में तैयार हो कर निकलते हैं. अगर आप भी इस जन्माष्टमी पर अपनी बेटी को राधा रानी के रूप में सजाना चाहते हैं तो इस  तरह कर सकते हैं उसका श्रृंगार.

ऐसे करें बेटी का श्रृंगार 
बेटी के चेहरे पर अधिक मेकअप न लगाएं क्योंकि इनमें कैमिकल का उपयोग होता है, जो उसकी नाजुक त्वचा के लिए ठीक नहीं. बेटी के चेहरे पर मॉइश्चराइजिंग क्रीम लगाने के बाद हल्का फाउंडेशन या टेल्कम पाउडर लगाकर बेस तैयार करें. फिर हल्का सा ब्लश यूज करें. लिप्स्टिक और काजल लगाएं. 

लहंगा 
अगर बेटी के पास लहंगा है तो ठीक है नहीं तो आप उसके लिए लाल, पीले या हरे रंग का चटख लहंगा खरीदें. इस पर थ्रेड की कढ़ाई और मिरर वर्क हो तो और भी बेहतर है. 

गजरा 
बेटी के बाल बड़े हैं तो उसके बालों में लगाने के लिए आपको सिर्फ गजरा खरीदने की जरूरत है. नहीं तो आप आर्टिफिशल बन भी साथ में खरीदें. फिर लहंगे और दुपट्टे के साथ जूड़ा बनाकर उसमें गजरा अवश्य लगाएं. 

मुकुट या माथा पट्टी 
राधा रानी के लिए आप मुकट खरीदें. नहीं तो माथा पट्टी खरीदें. अगर आप ये नहीं लेना चाहती तो सिर्फ टीका भी खरीद सकती हैं. इनमें से कोई एक चीज जरूर खरीदें. नहीं तो बेटी का लुक अधूरा रहेगा. 

बाजूबंद 
बिटिया को राधा रानी के रूप में सजाने के लिए बाजूबंद का उपयोग अवश्य करें. आप चाहें तो बाजूबंद के स्थान पर बांधने के लिए भी गजरा उपयोग कर सकती हैं. 

कुंडल 
बेटी के कान छिदे हुए हैं तो ठीक है और यदि नहीं तो आप उसके लिए चिपकाने वाले इयरिंग ला सकती हैं. बेटी ज्यादा छोटी है तो आप उसके कानों पर इयरिंग की जगह बड़ी और नग वाली बिंदी भी चिपका सकती हैं. 

पायल 
बिटिया के पायल या घुंघरू खरीदें और लहंगे के साथ पहनाएं. छम-छम की आवाज के बिना बिटिया का राधा रानी लुक अधूरा लगेगा. 

चूड़ियां 
बेटी के हाथ की रंग बिरंगी चूड़िया खरीदें. आप चाहें तो छोटी बच्चियों के लिए आनेवाला प्लास्टिक का चूड़ा भी खरीद सकती हैं. छोटी बच्चियों को कांच की चूड़ी पहनाने में उन्हें चोट लगने का डर रहता है. 

कूल्हा 
कई जगह इसे डरकस, गुच्छा या कमरबंद भी कहते हैं. इसे बेल्ट की जगह पहना जाता है. लहंगे के ऊपर बिटिया को यह जरूर पहनाएं. 

हाथों को खूबसूरत बना सकती हैं ये लेटेस्ट ट्रेंडी रिंग्स

लेटेस्ट Earrings ट्राई करना है तो जानें आलिया भट्ट से ट्रेंड

इस जन्माष्टमी पर बच्चों को इन ड्रेस से बनाएँ कृष्ण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -