खत्म हुई गूगल और माइक्रोसॉफ्ट की क़ानूनी जंग

खत्म हुई गूगल और माइक्रोसॉफ्ट की क़ानूनी जंग

सर्च इंजन गूगल और माइक्रोसॉफ्ट के बीच पेटेंट को लेकर 18 मामले लम्बे समय से सामने आये है लेकिन हाल ही में यह खबर सामने आई है कि अमेरिका और जर्मनी की अदालतों में चल रहे इन 18 मामलों को लेकर दोनों कम्पनियों के बीच सुलह भी हो गई है. एक रिपोर्ट से यह बात सामने आई है कि दोनों ही कम्पनियों का यह मानना है कि मोबाइल फोन और वाई-फाई में प्रौद्योगिकी के उपयोग और एक्सबॉक्स वीडियो गेमिंग कंसोल के साथ ही विंडोज उत्पादों को लेकर चल रहा विवाद अब समाप्त हो गया है. इसके साथ ही कम्पनी ने यह भी कहा है कि माइक्रोसॉफ्ट और गूगल दोनों बिना किसी वित्तीय खुलासे के एकसाथ काम करने के लिए तैयार हो गए है. और आगे के समय में ग्राहकों के लाभ के लिए साथ ही काम करने वाले है.

आपको इस मामले में जानकारी देते हुए यह बात स्पष्ट कर दे कि पेटेंट को लेकर यह विवाद 2010 में शुरू हुआ था, उस दौरान मोइक्रोसॉफ्ट के द्वारा मोटोरोला पर यह आरोप भी लगाया गया था कि उसके द्वारा अन्य कम्पनियों को कम कीमत पर नेटवर्किंग और वीडियो प्रौद्योगिकी पेटेंट का लाइसेंस दिए जाने के कर्तव्य का पालन नहीं किया जा रहा है. इसके कुछ समय के बाद ही गोले के द्वारा मोटोरोला का अधिग्रहण कर लिया गया था, इसके कुछ समय बाद गूगल ने भी इसे लेनोवो को बेच दिया था लेकिन कम्पनी से जुड़े पेटेंट और संपत्तियां अपने पास ही रख लिए थे.