लातविया को हो जाना चाहिए अब सतर्क

Feb 06 2016 09:22 AM
लातविया को हो जाना चाहिए अब सतर्क

रूस- हांल ही में रूस की एक न्यूज ऐंजेसी ने यह रिपोर्ट जारी कि है,कि लातविया को सतर्क हो जाना चहियें ,रूस अपनी सेना को लातविया की सीमा पर कभी भी भेंज सकता है,और अगर रूस की यहां जींत हासिल हो जाती है तो वह अगला निशाना राजधानी ताल्लिन को बना सकता है। 1990 मेें  एस्टोनिया, लातविया और लिथुआनिया समेत कई देश सोवियत यूनियन  संघ में शामिल हुई थें। पर आचानक संघ की सामाप्ति होने  के बाद यह देशों ने एक और संघ का निर्माण किया जिसका नाम - यूरोपियन यूनियन है, इन देशो ने इस संघ की सदस्यता भी ले रखी है।

पर रूस का कहना है कि इन देशों में भारी संख्या में रूसी लोंग रहते है ,जिसकें कारण वह इन देशों पर कब्जा करना चाहता है, और इतना ही नही वह लगातार कोशिंश भी करता आया है, और हांल ही मे उसने क्रीमिया शहर पर अपना कब्जा भी कर लिया है।

हांल ही में प्रकाशित रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है, कि नाटो एस्टोनिया और लातविया को इसका जिम्मेदार बताया है, इतना ही नहीं रिपोर्ट में यह भी बातया गया है कि रूस की सैना,बटालियनों का समाना करने के लिये, लातवियाई और नाटो की सैना में  इतना साहस नही है, कि वह रूस की सैना से मुकाबला कर सकें।

इसका सबसें बड़ा कारण लातवियाई या नाटों सेना के  पास बैटल टैंक ना होना। रिपोर्ट में यह  भी लिखा है,कि यदि रूस को नही रोका गया तो वह अगलें 60 घंटे में दो से तीन देशों पर अपना कब्जा कर सकता है।

वही क्रीमिया शहर में एक अजीब सा माहोल हो गया है, क्योंकि पूरे शहर को रूस की सैना ने घेर रखा है, जिससे वहा की जनता में भी काफी डर  पैदा हो गया है।