5 वर्ष की उम्र में ही लता मंगेशकर ने सीखा था संगीत

5 वर्ष की उम्र में ही लता मंगेशकर ने सीखा था संगीत

लोकप्रिय गायिका लता मंगेशकर आज अपना जन्मदिन मना रही है। लता मंगेशकर का जन्‍म 28 सितंबर 1929 को इंदौर के मराठी परिवार में पंडित दीनदयाल मंगेशकर के घर हुआ। इनके पिता रंगमंच के कलाकार तथा गायक भी थे इसलिए संगीत इन्‍हें विरासत में मिला। लता मंगेशकर का पहला नाम 'हेमा' था, मगर जन्‍म के 5 वर्ष पश्चात् माता-पिता ने इनका नाम 'लता' रख दिया था। लता अपने सभी भाई-बहनों में बड़ी हैं। मीना, आशा, उषा तथा हृदयनाथ उनसे छोटे हैं। इनके जन्‍म के कुछ दिनों बाद ही परिवार महाराष्‍ट्र चला गया।

वही लता मंगेशकर ने अपने संगीत सफर का आरम्भ मराठी फिल्‍मों से किया। इन्‍होंने मराठी फिल्‍म 'किटि हासल' (1942) के लिए एक गाना 'नाचुं या गडे, खेलूं सारी मनी हस भारी' गाया, किन्तु आखिर वक़्त में इस गाने को फिल्‍म से निकाल दिया गया। तत्पश्चात, विनायक ने नवयुग चित्रपट की मराठी फिल्‍म 'पहली मंगला गौर' (1942) में कार्य किया और फिल्‍म में गाना 'नातली चैत्राची नावलाई' गाया।

साथ ही लता ने सिर्फ 5 वर्ष की उम्र में ही अपने पिता के मराठी संगीत नाट्य में कार्य किया। 1942 में इनके पिता की मौत हो गई। इस दौरान ये सिर्फ 13 वर्ष की थीं। नवयुग चित्रपट फिल्‍म कंपनी के मालिक और इनके पिता के दोस्‍त मास्‍टर विनायक (विनायक दामोदर कर्नाटकी) ने इनके परिवार को संभाला और लता मंगेशकर को एक सिंगर और अभिनेत्री बनाने में मदद की। वही 1947 में भारत बंटवारे के बाद उस्‍ताद अमानत अली पाकिस्‍तान चले गए। लता ने उस्‍ताद बड़े गुलाम अली खान, पंडित तुलसीदास शर्मा तथा अमानत खान देवसल्‍ले से संगीत सीखा। 1948 में विनायक की मौत के बाद गुलाम हैदर लता के संगीत मेंटर बने। और इसी के साथ लता मंगेशकर ने जगत को कई बेहतरीन गाने दिए है। 

कंगना रनौत के विरुद्ध दर्ज हुआ केस, लगा ये आरोप

NCB के सामने सारा अली खान ने किया बड़ा खुलासा, कहा- ड्रग्स लेते थे सुशांत

रिया चक्रवर्ती के अधिवक्ता ने किया बड़ा खुलासा, कहा- जांच एजेंसियों पर डाला जा रहा है दबाव