पुण्यतिथि विशेष : माँ भारती के 'बहादुर लाल शास्त्री', उनके जीवन की ये बातें उन्हें बनाती है महान

Jan 11 2019 12:05 AM
पुण्यतिथि विशेष : माँ भारती के 'बहादुर लाल शास्त्री', उनके जीवन की ये बातें उन्हें बनाती है महान

भारतीय राजनीति में गहरी छाप छोड़ने वाले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को मुगलसराय में हुआ था. उनकी माता का नाम रामदुलारी देवी और पिता का नाम मुंशी शारदा प्रसाद श्रीवास्तव था. वे आज हमारे बीच तो नहीं है, लेकिन आज भी वे सादा जीवन, उच्च विचार, सादगी और सत्य मार्ग के तहत वे हर भारतीय के दिल में ज़िंदा है. आज ही के दिन साल 1966 में उज्बेकिस्तान के ताशकंद में उनकी महज 62 वर्ष की उम्र में मृत्य हो गई थी. देश आज उनकी 63वीं पुण्यतिथि मना रहा है. ऐसे में आइए जानते है आज भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जीवन से जुड़ी कुछ ख़ास बातें...

- महान क्रांतिकारी भगत सिंह के जीवन पर एक फिल्म बनी थी, जिसका नाम 'शहीद' था. लालबहादुर शास्त्री ने जब यह फिल्म देखी, तो वे खुद को रोने से रोक नहीं सके थे. 

-सफलतम नारों में से एक 'जय-जवान-जय किसान' का नारा लाल बहादुर शास्त्री ने ही दिया था. उनके इस नारे ने देश को एकता के सूत्र में पिरोया. 

- शास्त्री काफी गरीबी में पले बढ़ें. उनकी प्राथमिक शिक्षा नाना-नानी के पास रहकर पूरी हुई. वहीं वे आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण नदी तैरकर स्कूल जाया करते थे. 

- लाल बहुर अपनी शादी में दहेज़ नहीं लेना चाहे थे, लेकिन अपने ससुर के कहने पर वे एक चरखा और 5 मीटर खादी का कपड़ा दहेज़ में लाए थे.

- देश में पहली बार लाठी चार्ज की जगह पानी की बौछार डालने का आदेश शास्त्री ने ही जारी किया था, ताकि इससे किसी को चोट ना आए.

- शास्त्री लाल बहादुर का उपनाम नही बल्कि यह उपाधि है. काशी विद्यापीठ में बीए की डिग्री को शास्त्री कहते थे. उन्हें विश्वविद्यालय से यह डिग्री मिली और उन्होंने इसे अपनी पहचान बना ली. 

- आर्थिक तंगी से जूझने के कारण कहा जाता है कि शास्त्री फटे कपड़ों से बाद में रूमाल बनवाते थे औऱ फटे कुर्तों को कोट के नीचे पहनते थे.

- शास्त्री को मरणोपरांत साल 1966 में देश का सबसे ऊंचा सम्मान 'भारत रत्न' भी मिल चुका है. 

हमारी पार्टी लोकसभा चुनाव के बाद किंग मेकर साबित होगी : शिवपाल यादव

भरी संसद में मस्ती के मूड में थी किरण खेर, इन हरकतों के साथ अब जमकर वायरल हो रहा VIDEO

मायावती को मायावती कहना मोदी के मंत्री को पड़ा भारी, भरी सदन में मांगनी पड़ी माफी

आरक्षण तो दिया पर नौकरियां कहां से आएगी : शिवसेना