World Poetry day पर कुंवर नारायण की प्यारी सी कविता

बहुत कुछ दे सकती है कविता
क्यों कि बहुत कुछ हो सकती है कविता
ज़िन्दगी में

अगर हम जगह दें उसे
जैसे फलों को जगह देते हैं पेड़
जैसे तारों को जगह देती हैं रात

हम बचाये रख सकते हैं उसके लिए
अपने अंदर कहीं
ऐसा एक कोना
जहाँ जमीन और आसमान
जहाँ आदमी और भगवान के बीच दूरी
कम से कम हो।

वैसे कोई चाहे तो जी सकता है
एक नितांत कविता-रहित ज़िन्दगी

कर सकता है
कविता-रहित प्रेम।

-कुंवर नारायण 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -