कुछ और भी हैं

कुछ और भी हैं

कुछ और भी हैं
वजहें; मेरी बदहाली की

हर ग़म के पीछे
ज़रूरी नहीं; कि इश्क़ ही हुआ करता है !