धन के प्रवाह और कृष्णा रिवर को लेकर मैनेजमेंट बोर्ड की बैठक आज

कृष्णा नदी प्रबंधन बोर्ड आज बजटीय सहायता और कार्य व्यवस्था के मुद्दों पर चर्चा करेगा। बोर्ड 2021-22 जल वर्ष के दौरान कृष्णा के जल बंटवारे के प्रबंधन पर चर्चा करने के लिए बैठक करने वाला है। बैठक में तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के बीच जारी खींचतान जैसे एजेंडा पर भी चर्चा होगी। इन दोनों राज्यों में कृष्णा जल के उपयोग को लेकर लड़ाई है, केआरएमबी मुख्यालय को हैदराबाद से विशाखापत्तनम स्थानांतरित करना भी है।

केआरएमबी के सदस्य-सचिव डीएम रायपुरे द्वारा जारी नोटिस के अनुसार बोर्ड को बजटीय सहायता प्रदान करना उन महत्वपूर्ण मुद्दों में से एक है, जिस पर बैठक में चर्चा की जाएगी, जिसमें दोनों राज्यों के जल संसाधन अधिकारी भी शामिल होंगे। यह तीसरी बैठक है जहां केआरएमबी ने ₹10 करोड़ का आरक्षित कोष बनाने का प्रस्ताव रखा है, लेकिन अभी तक तेलंगाना और आंध्र प्रदेश दोनों ने कोई राशि नहीं दी है। केआरएमबी ने दोनों राज्यों से अपने खर्च को पूरा करने के लिए तुरंत ₹10 करोड़ जारी करने का अनुरोध किया है।

तेलंगाना सरकार ने पिछले साल ₹8.37 करोड़ की आवंटित राशि के मुकाबले ₹3.5 करोड़ जारी किए। रायपुरे ने कहा, "पिछले दो वर्षों में आंध्र प्रदेश सरकार से कोई धन प्राप्त नहीं हुआ है।" रायपुरे ने आगे कहा कि तेलंगाना के अनुरोध पर पानी के अप्रयुक्त हिस्से को अगले वर्ष तक ले जाने की अनुमति देने के लिए और आंध्र प्रदेश की आपत्ति पर भी बैठक में चर्चा की जाएगी। बैठक में तेलंगाना में कई सूक्ष्म सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण के खिलाफ आंध्र प्रदेश सरकार की शिकायत पर भी चर्चा होगी।

क्या फिर बिगड़ेंगे कोरोना से भारत के हाल, 24 घंटो में एक दम से बढ़ा संक्रमण का आंकड़ा

कर्नाटक में आज आयोजित किया जाएगा महा टीकाकरण अभियान

DGCA ने 737 मैक्स ऑपरेटरों को फिर से शुरू करने की दी अनुमति

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -