ये है कोजागर पूर्णिमा के शुभ मुहूर्त और पूर्ण पूजा विधि

Oct 12 2019 04:20 PM
ये है कोजागर पूर्णिमा के शुभ मुहूर्त और पूर्ण पूजा विधि

आप सभी को बता दें कि कल यानी 13 अक्टूबर को कोजागर पूर्णिमा यानी शरद पूर्णिमा है. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं इस दिन के पूजन का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि और माँ लक्ष्मी की आरती.


कोजागर पूर्णिमा की तिथि और शुभ मुहूर्त - 

कोजागर पूर्णिमा तिथि: रविवार, 13 अक्‍टूबर 2019
पूर्णिमा तिथि प्रारंभ: 13 अक्‍टूबर 2019 की रात 12 बजकर 36 मिनट से
पूर्णिमा तिथि समाप्‍त: 14 अक्‍टूबर की रात 02 बजकर 38 मिनट तक
चंद्रोदय का समय: 13 अक्‍टूबर 2019 की शाम 05 बजकर 26 मिनट


कोजागर पूर्णिमा व्रत की पूजा विधि - इस दिन स्‍नान कर स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें और दिन भर व्रत का संकल्‍प लें. इसके बाद घर के मंदिर या पूजा स्‍थान पर पीतल, चांदी, तांबे या सोने से बनी लक्ष्‍मी की प्रतिमा को कपड़े से ढककर पूजा करें. अब इसके बाद माता की ढकी हुई प्रतिमा के आगे घी का दीपक जलाएं. इसके बाद हाथ में फूल लेकर मां का आह्वाहन करें और मां की प्रतिमा को पंचामृत और फिर शुद्ध जल अर्पित करें. इसके बाद मां को पुष्‍प, ऋतुफल और नैवेद्य अर्पित करें उनकी आरती उतारें. 


अब शाम के समय दूध से बनी खीर तैयार करें और इसके बाद रात्रि के समय चंद्रोदय होने पर घर में घी के 11 दीपक जलाएं. इसके बाद आकाश के नीचे चांद की रोशनी में खीर को रखें और इसके बाद माता लक्ष्‍मी की आरती उतारें. अब रात 12 बजे सबसे पहले मां लक्ष्‍मी को चांद की रोशनी में रखी खीर का भोग लगाएं और इस खीर को घर के सभी लोगों में प्रसाद स्‍वरूप वितरण करें. इसी के साथ इसे खुद भी खाए. कहा जाता है इस पूर्णिमा के दिन रात्रि जागरण करना चाहिए और माता लक्ष्मी की आरती उतारनी चाहिए.

शरद पवार बोले, 80 साल का हो चुका हूँ, लेकिन एनर्जी लेवल अब भी 30 साल के युवा जैसा

शरद पूर्णिमा पर पहने इस रंग के कपड़े और कर लें यह सरल उपाय

राफेल विमान पर सियासी बयानबाजी हुई और गर्म, इस लड़ाई में कूदे शरद पवार, फिर कहा कुछ ऐसा