जानिए क्यों शास्त्रों में इस जगह दीपक रखने को कहा जाता है

हिंदू धर्म में पूजा करते समय देसी घी या सरसों के तेल का दीपक जलाया जाता है. ऐसा माना जाता है कि दीपक की रोशनी घर में छाए अंधकार और दरिद्रता को दूर करती है. जो लोग भगवान में आस्था और श्रद्धा रखते है  वहीं कुछ लोग अपनी स्वार्थ सिद्धी के लिए भी ईश्वर की आराधना करते हैं . इसे पूजा करने का एक तरीका भी मान जाता है. 

ऐसी मान्यता है कि घर में सुबह और शाम के समय दीपक जलाने से सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है.दीपक जलाना ना सिर्फ धार्मिक नजरिए से फायदेमंद है बल्कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी यह फायदा पहुंचाता है. जब घर में शुद्ध घी या सरसों के तेल से दीपक जलाया जाता है तो उसके धुएं से घर के माहौल में सात्विकता आती है और इससे आसपास के वातावरण में मौजूद हानिकारक कणों का भी नाश होता है.

किसी जगह पर आपको भय या अस्थिरता महसूस होती है वहां पर दीया जलाकर रखने से मन में स्थिरता आती है. शनि के कुप्रभाव से मुक्ति के लिए तिल्ली के तेल की अखंड जोत जलाये रखने को शुभ माना जाता है. विद्यार्थियों के लिए घी का दीपक जलाना शुभ मन जाता है वहीं घी एवं सरसों के तेल का अखंड दीपक जलाने से त्वरित शुभ कार्य सिद्ध होते हैं.

इस मन्त्र के जाप से पहुँच सकते है सफलता के शिखर पर

भगवान शंकर के इस रूप का जन्म नहीं उत्पत्ति हुई : बाबा गोरखनाथ

MOTHER DAY SPECIAL : जानिए अपनी माँ के जन्म माह से उनका स्वभाव

इस दिशा में तिजोरी रखने से होती है धन में कमी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -