जानिए आखिर क्यों लड़कियों को मैथ और साइंस लेने में लगता है डर

ऐसा देखने को मिलता है की अधिकतर लड़कियां खुद को लड़कों की अपेक्षा गणित में कमजोर मानती हैं, जबकि ऐसा बिलकुल भी नहीं है। यह केवल उनकी एक सोच है जो डर पैदा कर देती है की यह विषय कठिन है। लड़कियों में आत्मविश्वास की कमी के कारण ऐसा लगता है की यह विषय कठिन है हम इसे पास नहीं पर पाएगें, जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है।

मुख्य अध्ययनकर्ता अमेरिका की फ्लोरिडा स्टेट यूनिवर्सिटी में सहायक प्राध्यापक लारा पेरेज फेल्कनर का कहना है कि लगातार ऐसा तर्क दिया जा रहा है कि उच्च शिक्षा में विज्ञान विषयों में लैंगिक विषमता योग्यता को दर्शाती है। लेकन जब हमने गणित में योग्यता की परीक्षा ली तो पाया कि लड़के और लड़कियां बराबर योग्य हैं। इस समानता के बावजूद लड़के खुद को गणित में बेहतर मानते हैं, जबकि लड़कियां खुद को कमजोर मानती हैं।

हाल के दशक में पूरी दुनिया में उच्च शिक्षा ग्रहण करने वाली लड़कियों की संख्या में वृद्धि दर्ज की गई है। इसके बावजूद भौतिकी, इंजिनीयरिंग, गणित और कंप्यूटर विज्ञान में महिलाओं का प्रतिनिधित्व कम बना हुआ है।

एक बार फिर इस अभिनेता संग अफेयर को लेकर चर्चाओं में छाई कृति

UPSC CSE की परीक्षा देने वालों के लिए बड़ी खबर, जारी हुए रिजल्ट

ब्रिटिश भारतीय राज्य क्षेत्र के विस्तार का अंत किसके समय में हुआ?

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -