जानिए क्या है विश्व क्षुद्रग्रह दिवस का इतिहास

अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस (International Asteroid Day) हर वर्ष 30 जून को विश्व स्तर पर सेलिब्रेट किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस का उद्देश्य क्षुद्रग्रह प्रभाव के खतरे के बारे में जन जागरूकता बढ़ाना और एक विश्वसनीय निकट-पृथ्वी वस्तु के खतरे के केस में वैश्विक स्तर पर किए जाने वाले संकट संचार कार्यों के बारे में जनता तक जानकारी पहुँचाना है।

अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस: दिसंबर 2016 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 30 जून को अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस घोषित करते हुए संकल्प A/RES/71/90 को अपना लिया है, ताकि 30 जून 1908 को साइबेरिया, रूसी संघ पर तुंगुस्का प्रभाव की सालगिरह सेलिब्रेट और क्षुद्रग्रह प्रभाव खतरे के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रत्येक वर्ष अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सेलिब्रेट किया जाना चाहिए।

क्षुद्रग्रह क्या है?: बता दें कि क्षुद्रग्रह छोटे चट्टानी पिंड हैं जो सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करते हुए दिखाई देते है। अधिकतर, वे मंगल और बृहस्पति की कक्षाओं के बीच पाए जाते हैं लेकिन कुछ में अधिक विलक्षण कक्षाएँ में दिखाई देती है। तो, हम कहेंगे कि क्षुद्रग्रह चट्टानी-धातु की वस्तुएं हैं, जो आकार में कंकड़ के आयामों से लेकर लगभग 600 मील की दूरी तक होती हैं। वे इतने छोटे हैं कि उन्हें ग्रह नहीं माना जाता है लेकिन वे सूर्य की परिक्रमा करते हैं। उन्हें सौर मंडल के बचे हुए पदार्थ के रूप में भी पहचाना जाता है।

40 साल की उम्र में ये महिला बनी 44 बच्चों की मां, जानिए वजह

यूक्रेन को यूरोपियन संसद से मिली मंज़ूरी, उठाने जा रहा है यह कदम

इजराइल सैनिको ने फिलिस्तीन पर किया हमला,इतने लोगो की गयी जान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -