जानिए क्या है भ्रष्टाचार निरोध दिवस का इतिहास

प्रत्येक साल 9 दिसम्बर को अन्तर्राष्ट्रीय भ्रष्टाचार निरोध दिवस सेलिब्रेट किया जा रहा है। इसे मनाने का उद्देश्य लोगों को भ्रष्टाचार के प्रति जागरूक करना पड़ेगा। दिन प्रतिदिन भ्रष्टाचार बढ़ता जा रहा है। इस को खत्म करने के लिए इंटरनेशनल एंटी क्रप्शन डे सेलिब्रेट किया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार विरोधी दिवस का महत्व: अंतरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार विरोधी दिवस (International Anti Corruption Day 2021) का अहम् वर्ल्ड स्तर पर कदाचार के बारे में पैरोकार करना और यह बताना है कि किसी को इससे कैसे और क्यों बचना जरुरी है। ये दिन भी भ्रष्टाचार-रोधी समूहों में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। भ्रष्टाचार कई मायनों में देश के आर्थिक विकास को भी प्रभावित कर रहा है।

भ्रष्टाचार निरोध दिवस का इतिहास: 31 अक्टूबर 2003 को महासभा ने भ्रष्टाचार के विरुद्ध संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन को अपनाया और अनुरोध किया कि महासचिव ड्रग्स और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (United Nations Office on Drugs and Crime -UNODC) को राज्यों की पार्टियों के सम्मेलन के कन्वेंशन के लिए सचिवालय के रूप में (संकल्प 58/4) नामित कर दें। भ्रष्टाचार के बारे में जागरूकता बढ़ाने और इससे निपटने और इसे रोकने में कन्वेंशन की भूमिका के लिए विधानसभा ने 9 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय भ्रष्टाचार विरोधी दिवस के रूप में भी नामित किया। कन्वेंशन दिसंबर 2005 में लागू हो चुका था।

भ्रष्टाचार क्या है?: सबसे पहले यह जानना आवश्यक है कि भ्रष्टाचार (International Anti Corruption Day 2021) है क्या। आम शब्दों में कहे तो जायज या नाजायज काम कराने के लिए दिया जाने वाला अनुचित लाभ ही भ्रष्टाचार कहलाता है। साधारण शब्द में कहे कि जब कोई व्यक्ति किसी काम से सरकारी या निजी संस्था पर जाता है तो वह अपना काम कराने के लिए अधिक धन देता है तो उसे भ्रष्टाचार भी बोलते है।

विजया गाड्डे ने ट्रम्प को 'ट्विटर' से हटाया, Twitter Files खुलते ही उठने लगी गिरफ़्तारी की मांग

'मुझे पीएम मोदी पर पूरा भरोसा..', बाइडेन के बाद अब फ्रांस के राष्ट्रपति ने की तारीफ

जल्द भारत आएंगे 12 और चीते, नए बाड़े बनकर हुए तैयार

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -