जाने कुछ तरीके स्मोग से बचने के

स्मोग उस प्रदूषित हवा को कहा जाता है जो धुएं (स्मोक) और कुहासे (फॉग) के मेल से बनी होती है. इसे धुआंसा या धूम कोहरा भी कहते हैं. गाड़ियों और फैक्टरियों से निकले धुएं में मौजूद राख, सल्फर और बाकी की खतरनाक गैसें जब कुहरे के संपर्क में आती हैं तो स्मोग बनता हैं. यह स्मोग वायु प्रदूषण से पैदा हुई कई बीमारियों का कारण बनता है.

स्मोग के असर से बचने के लिए आप ये तरीके अपना सकते हैं-

मास्क पहनें- स्मोग से बचने के लिए डस्ट मास्क कारगर नहीं है. इसपर ज्यादा निर्भर न रहें. इससे बचने के लिए आपको एन95 या पी100 रेस्पीरेटर का उपयोग करना चाहिए.

वर्कआउट से बचें- स्मोग की हालत में वर्कआउट नहीं करना चाहिए. साफ शब्दों में कहा जाए तो इस दौरान आपको कोई ऐसा काम नहीं करना चाहिए जिसमें आपको तेज सांस लेने की जरूरत पड़े.

गैस चूल्हे और मोमबत्ती के पास न बैठें- घर में आपको गैस चूल्हे, अगरबत्ती और मोमबत्ती के पास नहीं बैठना चाहिए. वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल भी तभी करना चाहिए जब उसमें हेपा फिल्टर लगा हो.

एसी भी यूं ही न चलाएं- आपको एसी भी तभी चलाना चाहिए जब इसमें फिल्टर लगे हों. या फिर आपका एसी ऐसा हो जो बाहर से हवा अंदर की तरफ न खींचे.

दरवाजे, खिड़कियां बंद करके सोएं- किसी ऐसे कमरे में सोएं जिसमें दरवाजों और खिड़कियों की संख्या कम हो. खिड़कियों को बंद ही रखें या खुला भी रखना चाहें तो इस बात का भी ध्यान रखें कि उसमें बाहर की हवा कम से कम आती हो.

जाने महिलाओ के बिंदी लगाने के सेहतमंद फायदे

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -