किन्नर होते है बुद्ध ग्रह का प्रतीक

Nov 20 2016 07:09 AM
किन्नर होते है बुद्ध ग्रह का प्रतीक

ज्योतिषशास्त्र के अंतर्गत वो उपाय भी मौजूद हैं जो अशुभ स्थिति में बैठे ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव से मुक्त करा सकते हैं.आज हम आपको कमजोर या खराब स्थिति में बैठे बुध ग्रह के नकारात्मक प्रभाव से कैसे बचा जा सकता है, इससे जुड़े कुछ उपाय बताने जा रहे हैं.

1-हिन्दू मान्यताओं के अनुसार किन्नरों को कभी दुखी नहीं करना चाहिए. किसी भी शुभ काम, जैसे विवाह या संतान का जन्म, के अवसर पर किन्नरों का आशीर्वाद प्राप्त करना और उन्हें दान देना आवश्यक माना जाता है. बुध ग्रह के दोषों को दूर करने का उपाय भी किन्नरों से ही संबंधित है  .

 2-बुध ग्रह को नपुंसक माना गया है और किन्नर भी ना तो स्त्री होते हैं और ना पुरुष. बुध ग्रह शुभ या अशुभ कोई फल नहीं देता, बल्कि जिस ग्रह के साथ वो बैठा है वह उसी के अनुसार फल देने लगता है.

 3-किन्नर, बुध ग्रह के प्रतीक होते हैं. इन्हें प्रसन्न कर बुध ग्रह को शांत किया जा सकता है. इन्हें दिए जाने वाले दान का संबंध स्वयं बुध ग्रह की प्रसन्नता से है.

4-बुध ग्रह को बुद्धि, वाणी और व्यवसाय का प्रतीक माना गया है. जिस व्यक्ति का बुध ग्रह मजबूत स्थिति में होता है वह अत्यंत प्रभावशाली व्यक्तित्व का मालिक होता है. उसकी वाणी से निकली बात भी खाली नहीं जाती.

5-बुध ग्रह को प्रसन्न रखने का संबंध किन्नरों को दान करने से है. परंतु एक बात जो ध्यान देने वाली है, वो ये कि दान की भावना आपके भीतर स्वत: ही उठनी चाहिए. उनके मांगने या आग्रह करने पर यह विचार अवश्य करें कि मांग कितनी जायज है.

बुद्ध ग्रह की शांति के उपाय