ख़्यालों में न आया करो

ख़्यालों में न आया करो

हा है तुमसे कितनी ही बार; 
कि ख़्यालों में न आया करो
जीने की कोशिशें सारी तुम यूँ आकर; 
तबाह कर दिया करते हो !