'केदारनाथ में बिक रहे भगवान', जानिए ऐसा क्यों कह रहे हैं लोग

कहते हैं बिना शिवलिंग को छुए दर्शन संपूर्ण नहीं माने जाते। दूर से देखने से दर्शन संपूर्ण नहीं होते। अगर आप शिव मंदिर में गए हैं तो आप जब तक शिवलिंग को स्पर्श नहीं कर लेते तब तक आप शिव जी की कृपा के पात्र नहीं है लेकिन आज के समय में ऐसा होता नहीं है। आज के समय में केवल धनी लोग ही शिवलिंग को स्पर्श कर पाते हैं क्योंकि अब मंदिरों में होने लगे हैं VIP और VVIP दर्शन और उसके लिए आपको देना होंगे 1000 रुपए,2500 रुपए या फिर 5000 रुपए। केवल यही नहीं बल्कि आज के समय में तो शिव जी का अभिषेक करने के लिए भी आपको धनी होना जरुरी है।

अगर आप किसी पंडित से पुजारी से कहेंगे कि वह अभिषेक करवा दे तो वह आपसे पहले फीस लेगा और उसके बाद अभिषेक करवाएगा। सच में यह कलयुग है और यहाँ कुछ भी हो सकता है। भगवान को बेचा जा रहा है कैसे वह आप खुद मंदिरों में जाकर देख ही रहे होंगे। हर दूसरे व्यक्ति को मंदिर के गर्भगृह में जाने नहीं दिया जाता, फिर वह बूढ़ा हो, जवान हो या बच्चा। हालाँकि जो लोग धनी है वह मंदिर में आराम से दर्शन करते हैं, गर्भगृह में जाते हैं शिवलिंग या फिर किसी अन्य भगवान की मूर्ति को स्पर्श करते हैं। अगर हम केदारनाथ की बात करें तो आप तो जानते ही होंगे वहां इन दिनों लोग बड़ी संख्या में पहुँच रहे हैं। जी दरअसल केदारनाथ के कपाट 6 मई से खुले हैं और उसके बाद से बड़ी संख्या में लोग दर्शन के लिए जा रहे हैं लेकिन इसी बीच कुछ लोगों का कहना है कि अंदर गर्भगृह में जाने ही नहीं दिया जा रहा और शिव जी के अगर बाहर से ही दर्शन करने हैं तो हम फ्घर बैठकर ही कर सकते हैं। जी हाँ, कई लोगों का कहना है, केदारनाथ में बेलपत्र के दाम 500 रुपए हैं जो आम शहरों में मात्र 5 रुपए या 10 रुपए में मिल जाती है। इस तरह से केदारनाथ में लूट मची है।

केवल यही नहीं बल्कि यहाँ से आने वाले लोगों ने यह भी खुलासे किये हैं कि यहाँ अगर आप पंडित को पैसे दे रहे हैं तो ही आप शिवलिंग को हाथ लगा सकते हैं और वह आपको टीका लगाएंगे वरना नहीं! लोगों का कहना है केदारनाथ के पंडित अंदर यूट्यूब देख रहे हैं। केवल यही नहीं बल्कि दिल्ली से केदारनाथ जाने वाले लोगों का कहना है यहाँ राज्य के हिसाब से पंडित बंटे हुए हैं और कोई राजस्थान की पूजा करवा रहा है तो कोई बिहार की। इसके अलावा यह भी खुलासा हुआ है कि यहाँ 1100 रुपए की पूजा की थाली मिल रही है जो आपको अंदर चढ़ानी है। केवल यही नहीं बल्कि अगर आपको पूजा करवानी है तो आपको 3600 रुपए देने होंगे और उसमे भी केवल 5 लोग शामिल हो सकते हैं। वहीं 1 घंटा पूजा के लिए 8500 रुपए देने होंगे और केवल 5 व्यक्ति। इसी के साथ 45 मिनिट पूजा के बदले देने होंगे 6500 रुपए और वह भी 5 व्यक्ति। इसी के साथ 30 मिनिट पूजा के बदले देने होंगे 5500 इसी के साथ 15 मिनिट में पूरी आरती के लिए देने होंगे 5000 वह भी एक व्यक्ति के बदले। इसी के साथ 2500 रुपए एक व्यक्ति अकेला शिव सहस्नाम पाठ कर सकता है और इसी तरह और भी बहुत कुछ।

कई लोगों का तो यह भी कहना है कि पूजा के नाम पर पंडित भगवान को बेच रहे हैं। वैसे केवल केदारनाथ ही नहीं बल्कि अन्य भी कई ऐसे मंदिर हैं जहाँ इसी तरह के कार्य किये जा रहे हैं और लोगों का कहना है यह एक धंधा है जो तेजी से चल रहा है और लोग इस धंधे में फंसे जा रहे हैं। आपकी इस पर क्या राय है हमे जरूर बताएं।

नोट: (तस्वीरें श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति-उत्तराखंड लिंक से ली गईं हैं)

'सत्य एक दिन सामने आ ही जाता है क्योंकि सत्य ही शिव है', ज्ञानवापी में शिवलिंग मिलने पर बोले डिप्टी CM मौर्य

अगर घर में लगा है ये पौधा तो नहीं होगा बुरी नजर और काले जादू का असर

भोले के भक्तों को करना चाहिए नंदी गायत्री मंत्र का पाठ, होते हैं बेहतरीन लाभ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -